Home /News /rajasthan /

Delhi Alwar Corridor: 70 मिनट में पूरा होगा दिल्ली-रेवाड़ी-अलवर का सफर, बनेंगे 16 स्टेशन; जानिए पूरा रूट

Delhi Alwar Corridor: 70 मिनट में पूरा होगा दिल्ली-रेवाड़ी-अलवर का सफर, बनेंगे 16 स्टेशन; जानिए पूरा रूट

Delhi-Alwar Corridor:
दिल्ली के सराय काले खां से अलवर तक रैपिड रेल कॉरिडोर तैयार किया जाना है.

Delhi-Alwar Corridor: दिल्ली के सराय काले खां से अलवर तक रैपिड रेल कॉरिडोर तैयार किया जाना है.

Delhi-Alwar Corridor Latest News: दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ (Delhi-Ghaziabad-Meerut) कॉरिडोर पर काम तेजी से चल रहा है. यह देश का पहला आरआरटीएस (रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम) है. दिल्ली-अलवर के बीच भी रैपिड रेल कॉरिडोर तैयार किया जाना है. 165 किलोमीटर लंबे इस ट्रैक में कुल 16 स्टेशन बनेंगे. 83 किमी हिस्सा हरियाणा, 22 किमी दिल्ली में और 2 किमी ट्रैक का निर्माण राजस्थान में किया जाएगा. रेल कॉरिडोर का 70.5 किमी हिस्सा एलिवेटेड होगा जबकि 36 किमी हिस्सा अंडरग्राउंड होगा. इस प्रोजेक्ट के बन जाने पर दिल्ली-अलवर का सफर महज 70 मिनट में पूरा हो सकेगा. हालांकि केंद्र सरकार की ओर से अंतिम मंजूरी का अभी भी इंतजार है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. दिल्ली से उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान के शहरों को जोड़ने के लिये रैपिड रेल कॉरिडोर तैयार किए जा रहे हैं. दिल्ली-मेरठ आरआरटीएस प्रोजेक्ट के फेज-1 पर काम जारी है. दिल्ली-पानीपत और दिल्ली-अलवर रेल कॉरिडोर भी बनाया जाना है. दिल्ली-पानीपत रैपिड रेल कॉरिडोर 103.02 किमी जबकि दिल्ली-अलवर के बीच का RRTS का 106 किमी लंबा होगा. हालांकि केंद्र सरकार की ओर से पिछले दो साल से अंतिम मंजूरी का इंतजार है. दिल्ली-अलवर कॉरिडोर तीन राज्यों दिल्ली-हरियाणा और राजस्थान से गुजरेगा. इसका 83 किमी हिस्सा हरियाणा में आएगा. दिल्ली के हिस्से में 22 किमी और राजस्थान में 2 किमी ट्रैक का निर्माण किया जाएगा. इस रेल कॉरिडोर का 70.5 किमी हिस्सा एलिवेटेड होगा. 36 किमी हिस्सा अंडरग्राउंड होगा. इस प्रोजेक्ट के बन जाने पर दिल्ली-अलवर का सफर महज 70 मिनट में पूरा हो सकेगा.

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र ट्रांसपोर्ट निगम (NCRTC) के अधिकारियों का कहना है, “दिल्ली-गुरुग्राम-एसएनबी (शाहजहांपुर, नीमराना, बहरोड़ अर्बन कॉम्प्लेक्स) प्रोजेक्ट के डीपीआर को हरियाणा और राजस्थान सरकार की ओर से मंजूरी दी जा चुकी है. केंद्र की अंतिम मंजूरी का अभी भी इंतजार है. यह प्रोजेक्ट अभी फिलहाल प्री-कंस्ट्रक्शन मोड पर है. जैसे ही केंद्र की ओर से फाइनल मंजूरी मिलेगी, काम एक माह के अंदर शुरू कर दिया जाएगा.”

फिलहाल अधिकारियों ने 22 इलेक्ट्रिक हाईटेंशन लाइन का पता लगाया है जो इस कॉरिडोर के बीच आ रही हैं. इन्हें शिफ्ट किया जाएगा. इनमें से 10 को एनसीआरटीसी की ओर से शिफ्ट किया जा चुका है. बाकी 12 लाइन को स्थानीय प्रशासन के सहयोग से पॉवर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया की ओर से शिफ्ट किया जा रहा है.

106 किलोमीटर के रूट पर 16 स्टेशन

106 किलोमीटर के रूट पर 16 स्टेशन होंगे. ये स्टेशन सराय काले खां, जोरबाग, मुनरिका, एयरो-सिटी, उद्योग विहार, सेक्टर 17, राजीव चौक, खेड़की धौला, मानेसर, पंचगांव, बिलासपुर चौक, धारूहेडा, एमबीआईआर, रेवाड़ी, बाबल और एसएनबी होंगे. 7 स्टेशन (उद्योग विहार, सेक्टर 17, राजीव चौक, खेड़की धौला, मानेसर, पंचगांव, बिलासपुर चौक) गुरुग्राम में बनाए जाएंगे. इसमें से 2 स्टेशन अंडरग्राउंड होंगे, जबकि शेष 5 स्टेशन एलिवेटेड होंगे. इस कॉरिडोर के बन जाने के बाद दिल्ली से बहरोड़ तक 106 किलोमीटर का सफर हाई स्पीड ट्रेन से महज 70 मिनट में पूरा होगा. 180 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से इस ट्रैक पर ट्रेन दौड़ेगी. 5 से 10 मिनट में ट्रेन मिलेगी.

Tags: Alwar News, Rajasthan news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर