Alwar: दलित परिवार का आरोप- जबरन कराया धर्म परिवर्तन, फिर दी जान से मारने की धमकी

पीड़ित का आरोप है कि बच्चों को मारने की धमकी दी गई और कहा गया कि कुछ करोगे तो तुम्हारी जान को खतरा हो सकता है.
पीड़ित का आरोप है कि बच्चों को मारने की धमकी दी गई और कहा गया कि कुछ करोगे तो तुम्हारी जान को खतरा हो सकता है.

राजस्‍थान के अलवर (Awar) में एक दलित परिवार का जबरन धर्म परिवर्तन (conversion) कराने का मामला सामने आया है. परिवार ने दोबारा से इस्‍लाम छोड़कर हिंदू धर्म अपना लिया. अब कोर्ट में जाकर सुरक्षा की गुहार लगाई है.

  • Share this:
अलवर. जिले के बड़ौदा मेव (Baroda Meo) थाना इलाके के भयाड़ी गांव निवासी एक दलित परिवार का धर्म परिवर्तन (Religion change) कराने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. यह दलित परिवार जिस धर्म में शामिल हुआ था, वहां कथित तौर पर हुए अत्याचारों के कारण परविार के सदस्‍यों ने दोबारा से हिंदू धर्म अपना लिया. अब इस परिवार ने कोर्ट से गुहार लगाई है और ज्‍यादती करने वाले आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

जानकारी के मुताबिक, भयाड़ी गांव निवासी मेमचंद उर्फ मोहम्मद अन्नस पुत्र काडू जाटव ने बताया कि उनके गांव में हरियाणा के फिरोजपुर झिरका के इब्राहिम बास गांव के मेव समाज के लोगों की रिश्तेदारी है. वे लोग अक्‍सर यहां आते-जाते रहते हैं. मेमचंद ने आरोप लगाया कि सत्तार, तैयब और शहजाद सहित 15 अन्य लोग उनका जबरन धर्म परिवर्तन कराने के लिये उन्हें हरियाणा ले गए. वहां उनका खतना भी कराया गया. उसके बाद रहने के लिये जमीन दी. जबरन धर्म परिवर्तन कराने के बाद कहा कि इस धर्म में बहुत कुछ है. उसके बाद आरोपी उन्हें जमात में जम्मू-कश्मीर लेकर गए. वहां उनके बच्चों को मारने की धमकी दी है कि कुछ करोगे तो तुम्हारी जान को खतरा हो सकता है.

नगर निगम चुनाव: सीएम गहलोत समेत कई मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर, देखें बीजेपी-कांग्रेस की सियासी पिक्चर



बीवी पर गंदी नजर रखने का आरोप
परिवादी ने आरोप लगाया कि आरोपी धर्म परिवर्तन कराने के बाद उनकी बीवी पर गंदी नजर रखने लगे. उससे जबरन संबंध बनाने के लिये दबाव बनाया गया. इसके बाद वे जैसे-तैसे करके मौका देखकर जम्मू-कश्मीर से वापस भाग निकले. एडवोकेट बनवारीलाल ने बताया कि इस संबंध में परिवाद आया था. अदालत से आदेश हुए हैं कि जिन लोगों ने उन पर अत्याचार किया है उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए. उल्लेखनीय है कि प्रदेश के बॉर्डर इलाके में पूर्व में भी धर्म परिवर्तन की खबरें आती रही हैं. बाड़मेर जिले में कुछ समय पहले एक गांव के कई परिवारों ने स्वयं धर्म परिवर्तन किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज