Alwar gangrape case: यह कृत्य रामकाल के सीता हरण और द्रोपदी के चीरहरण के समान है- कोर्ट

इस बहुचर्चित केस का फैसला सुनने के लिये बड़ी संख्या में लोग कोर्ट आये थे.
इस बहुचर्चित केस का फैसला सुनने के लिये बड़ी संख्या में लोग कोर्ट आये थे.

Alwar gangrape case: इस मामले में कोर्ट ने फैसला सुनाते हुये काफी तल्ख टिप्पणियां (strict comment) की है. कोर्ट ने कहा कि यह कृत्य रामकाल के सीता हरण और द्रोपदी के चीरहरण के समान है.

  • Share this:
अलवर. करीब सवा साल पहले अलवर जिले के थानागाजी इलाके में हुये गैंगरेप मामले (Alwar gangrape case) में दोषियों को सजा सुनाते हुये कोर्ट ने काफी तल्ख टिप्पणियां (Strict comment) की हैं. विशिष्ट न्यायाधीश अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण कोर्ट के न्यायाधीश ब्रजेश कुमार ने अपने फैसले में कहा कि यह कृत्य रामकाल के सीता हरण और द्रोपदी के चीरहरण के समान है. न्यायाधीश ने इस कहा कि यह मानवता को शर्मसार करने वाला कायरतापूर्ण और घृणित कृत्य (Disgusting act) है. दुष्कर्म जाति, मजहब की ही नहीं, बल्कि पूरी इंसानियत की समस्या है. इसलिए इसकी दंड की यात्रा ऐसी हो जो दुष्कर्म की अमरबेल से मुक्ति दिलाने में सहायक हो.

कोर्ट ने देशभर में इस वारदात के जरिये प्रदेश की मुंह पर कालिख पोतने वाले इस अमानवीय कृत्य के सभी आरोपियों को दोषी करार दिया है. कोर्ट ने इस केस के पांच दोषियों में से चार हंसराज, इन्द्राज, छोटेलाल और अशोक को जीवन की अंतिम सांस तक (शेष प्राकृत जीवन तक) जेल और जुर्माने की सजा सुनाई है. जबकि वीडियो वायरल करने वाले मुकेश को पांच साल की कड़ी कैद और जुर्माने की सजा सुनाई गई है.

Alwar Gangrape Case: पति को बंधक बनाकर पत्‍नी से गैंगरेप करने वाले 5 आरोपियों की सजा का ऐलान, 4 को उम्रकैद




कोर्ट ने दोषियों पर लगाया भारी जुर्माना
इस केस के मुख्य दोषी हंसराज पर कुल 3,29,500 रुपये का आर्थिक जुर्माना लगाया गया है, जबकि इन्द्रराज, छोटेलाल और अशोक पर 2,29,500 तथा मुकेश पर 102000 रुपये जुर्माना लगाया गया है. केस के फैसले को सुनाने से पहले सभी दोषियों को कड़ी सुरक्षा के साथ जेल से कोर्ट लाया गया. सजा का ऐलान होते ही उन्हें तत्काल वापस जेल ले जाया गया. फैसले को देखते हुये कोर्ट परिसर में भारी सुरक्षा बल तैनात किया गया था. इस बहुचर्चित केस का फैसला सुनने के लिये बड़ी संख्या में लोग कोर्ट आये थे.

Alwar gangrape case: वारदात से सजा तक की पूरी दास्तां, देखें, कहां, कब और कैसे हआ ये सब, PHOTOS

गत वर्ष 26 अप्रैल को हई थी वारदात
उल्लेखनीय है कि अलवर के थानागाजी इलाके में गैंगरेप की इस वारदात को गत वर्ष 26 अप्रैल को अंजाम दिया गया था. इस केस में पुलिस के ढुलमुल रवैये के कारण कई दिन तक तो प्राथमिकी ही दर्ज नहीं हो पाई थी. बाद में मामला जब मिडिया में आया और लोगों में आक्रोश फैला तब जाकर पुलिस चेती और आरोपियों की धरपकड़ शरू की गई. इस केस का छठा आरोपी नाबालिग है. उसकी अलग से पोक्सो कोर्ट में सुनवाई चल रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज