अलवर: JVVNL ने उपभोक्ता को जारी किया 311,41,54,015 रुपये का बिजली का बिल ! अधिकारियों के उड़े होश

बिल उपभोक्ता के पास पहुंचता इससे पहले ही वह सोशल मीडिया में वायरल हो गया.

बिल उपभोक्ता के पास पहुंचता इससे पहले ही वह सोशल मीडिया में वायरल हो गया.

जयपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (JVVNL) की ओर से जारी एक बिल में रही तकनीकी खामी इन दिनों सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बनी हुई है. निगम की इस खामी की वजह से एक उपभोक्ता को 311 करोड़ 41 लाख रुपये से अधिक का बिल (Bill) जारी हो गया.

  • Share this:

अलवर. जयपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (JVVNL) की ओर से एक उपभोक्ता को जारी बिल (Bill) ने निगम अधिकारियों के होश उड़ा दिये. निगम की ओर से जारी किये गये इस बिल में उपभोक्ता की देय राशि 311 करोड़ 41 लाख रुपये से अधिक बताई गई है. हालांकि यह बिल उपभोक्ता तक पहुंचा ही नहीं. उससे पहले ही वह सोशल मीडिया में वायरल (Viral) हो गया. निगम के अधिकारियों का कहना है कि यह तकनीकी खामी की वजह से ऐसा हो गया है. बिल को दुरुस्त करके भेज दिया गया है.

जानकारी के अनुसार भिवाड़ी के खुशखेड़ा की डीजल पावर इंटरनेशलन फर्म के नाम से जारी इस बिल में उपभोक्ता को कुल देय राशि 311,41,54,015 रुपये बताई गई है. यह बिल 9 जनवरी को जारी किया गया था. बिल उपभोक्ता के पास पहुंचता इससे पहले ही वह सोशल मीडिया में वायरल हो गया. निगम के अधिकारियों तक जब यह बात पहुंची तो उनके भी होश फाख्ता हो गये. आनन-फानन में बिल को कार्यालय में ही रुकवाकर संशोधित बिल बनवाया गया. लेकिन तब सोशल मीडिया में इस वायरल बिल को लेकर जबर्दस्त हो गई.

अलवर: JVVNL ने उपभोक्ता को जारी किया 311,41,54,015 रुपये का बिजली का बिल, अधिकारियों के उड़े होश Rajasthan- Alwar- JVVNL issued a consumer bill of Rs 3114154015 to the consumer- the officials were blown away
यह बिल जारी हुआ था.

तकनीकी खामी के चलते ऐसा हो गया था
इस संबंध में निगम के भिवाड़ी के एक्सईएन एससी महावर ने बताया कि तकनीकी खामी के चलते ऐसा हो गया था. बिल उपभोक्ता को दिये जाने से पहले ही गड़बड़ी पता चलने पर उसे रोक लिया गया. संशोधित बिल तैयार करवाकर उपभोक्ता को भेजा जा रहा है.

गत दिनों 12 करोड़ रुपये की बिजली चोरी पकड़ी थी

उल्लेखनीय है कि हाल ही में भिवाड़ी में बिजली चोरी मामले में एक उद्योगपति की गिरफ्तारी भी हुई थी. उसके बाद क्षेत्र के उद्योगपतियों में हड़कंप मच गया था. निगम के सतर्कता दल ने गत दिनों 12 करोड़ रुपये की बिजली चोरी पकड़ी थी. बिजली चोरी के मामले में सुपीरियर पॉलिमर्स के मालिक कृष्ण कुमार को गिरफ्तार किया गया था. उस पर 67,85,200 रुपये की बिजली चोरी का आरोप था. उसके बाद आरोपी को 15 दिनों के लिये न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया था. बिजली चोरी के अन्य आरोपियों की धरपकड़ के भी प्रयास किये जा रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज