अलवर लिंचिंग: सीएस और डीजीपी के साथ घटनास्थल पर पहुंचे गृहमंत्री कटारिया

गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया अलवर में अकबर उर्फ रकबर हत्याकांड में घटनास्थल का दौरान करने अलवर जाएंगे. उनके साथ मुख्य सचिव डीबी गुप्ता और डीजीपी ओपी गल्होत्रा भी होंगे.

Prem Meena | News18 Rajasthan
Updated: July 24, 2018, 5:36 PM IST
Prem Meena | News18 Rajasthan
Updated: July 24, 2018, 5:36 PM IST
अलवर मॉब लिंचिंग मामले में सरकार और पुलिस कार्रवाई पर उठे सवालों के बाद मंगलवार को गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया घटनास्थल का जायजा लेने अलवर पहुंचे. गृहमंत्री के साथ मुख्य सचिव डीबी गुप्ता और डीजीपी ओपी गल्होत्रा भी अलवर पहुंवे. कटारिया ने कहा है कि दोषी पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है और मामले की तह तक जाने की कोशिश की जा रही है.

इससे पहले राजधानी जयपुर  स्थित शासन सचिवालय में गृहमंत्री ने एक उच्च स्तरीय बैठक में मामले पर मंथन किया. इस बैठक में सीएस डीबी गुप्ता, डीजीपी ओपी गल्होत्रा और स्पेशल डीजी लॉ एंड ऑर्डर एनआरके रेड्डी भी मौजूद रहे. बैठक के बाद गृह मंत्री ने कहा कहा कि जांच रिपोर्ट में कमी लगी है. 3 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है. वस्तु स्थिति देखने के बाद जो भी आवश्यक कदम होंगे उठाए जाएंगे.

ये भी पढ़ें- थाने लाए जाने तक जिंदा था रकबर ख़ान! सामने आया आखिरी फोटो

मामले की न्यायिक जांच करने के सवाल पर कटारिया ने कहा कि वस्तु स्थिति का मौका मुआयना करने के बाद जो उचित लगेगा वही किया जाएगा. कटारिया ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि पुलिस की भूमिका की जांच कराई गई है. जांच रिपोर्ट मिल गई है.

ये भी पढ़ें- रकबर के पिता ने कहा, मेरे बेटे का पास गाय नहीं बकरियां थीं

उल्लेखनीय है कि अलवर के रामगढ़ में गौतस्करी के शक में हुई मॉब लिंचिंग की घटना पर स्थानीय बीजेपी विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने अपनी ही सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा था कि मारे गए और रकबर खान की मौत कार्यकर्ताओं की पिटाई से नहीं हुई बल्कि पुलिस की पिटाई से हुई थी. इसके बाद राज्य सरकार ने स्पेशल डीजी ला एंड आर्डर एनआरके रेड्डी के नेतृत्व में उच्च अधिकारियों की एक टीम घटना स्थल का दौरा करने के लिए भेजी थी.

ये भी पढ़ें- पुलिस वालों ने माना पीड़ित को अस्पताल ले जाने में हुई देरी, ASI निलंबित
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर