लाइव टीवी

डॉक्टरों की लापरवाही से हुई प्रसूता की मौत, परिजनों के हंगामे के बाद पुलिस ने केस दर्ज किया

Rajendra Prasad Sharma | News18 Rajasthan
Updated: January 16, 2020, 6:00 PM IST
डॉक्टरों की लापरवाही से हुई प्रसूता की मौत, परिजनों के हंगामे के बाद पुलिस ने केस दर्ज किया
अलवर- प्रसूता की मौत पर अस्पताल में परिजनों का हंगामा

परिजन कंवर सिंह का आरोप है कि अस्पताल प्रशासन की लापरवाही (Negligence of Hospital) से प्रसूता की मौत (Maternity death) हुई है. उन्होंने कहा कि प्रसूता की तबीयत सुबह 3 बजे बिगड़ने लगी तब डॉक्टर को बुलाया गया, लेकिन डॉक्टर सुबह 7 बजे आए और उसे कोटपुतली रेफर कर दिया. परिजन ने शक जाहिर करते हुए कहा कि उन्हें ऐसा नहीं लग रहा था कि रेफर किए जाते वक्त प्रसूता जीवित थी.

  • Share this:
अलवर. बानसूर के एक निजी अस्पताल (Private hospital) में प्रसूता की मौत (Maternity Death) के बाद परिजनों ने हंगामा कर दिया. हंगामे (Uproar) की सूचना पर बानसूर पुलिस मौके पर पहुंची और किसी तरह मामला शांत कराया. परिजनों ने डॉक्टरों पर लापरवाही के आरोप लगाते हुए दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई किए जाने की मांग की है. पुलिस ने मामला दर्ज (FIR) कर जांच शुरू कर दी है. जानकारी के अनुसार बानसूर कस्बे से एक निजी अस्पताल में मंडली गांव के कुछ लोग महिला संगीता पत्नी नरेश की डिलीवरी के लिए आए थे. परिजनों ने बताया कि सुबह करीब 7 बजे प्रसूता को ऑपरेशन से एक बच्ची पैदा हुई जिसके बाद उसे वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया. फिर अचानक उसकी तबीयत बिगड़ने लगी और उसकी मौत हो गई.

परिजनों को शक है कि रेफर किए जाते वक्त जीवित थी प्रसूता

परिजन कंवर सिंह का आरोप है कि अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से प्रसूता की मौत हुई है. उन्होंने कहा कि प्रसूता ने सुबह एक बच्ची को ऑपरेशन से जन्म दिया और उसे जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया. वहीं प्रसूता की तबीयत बिगड़ने पर उसे आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया. उन्होंने कहा कि प्रसूता की तबीयत सुबह 3 बजे बिगड़ने लगी तब डॉक्टर को बुलाया गया, लेकिन डॉक्टर सुबह 7 बजे आए और उसे कोटपुतली रेफर कर दिया. परिजन ने शक जाहिर करते हुए कहा कि उन्हें ऐसा नहीं लग रहा था कि  रेफर किए जाते वक्त प्रसूता जीवित थी.

परिजनों का आरोप है कि प्रसूता की मौत के बाद भी डॉक्टरों ने उसे कोटपूतली रेफर कर दिया.


परिजनों का आरोप है कि प्रसूता की मौत के बाद भी डॉक्टरों ने उसे कोटपूतली रेफर कर दिया. उन्हें कोटपूतली में सरकारी अस्पताल की जगह निजी अस्पताल में जाने के लिए कहा गया, लेकिन वहां पहुंचने के बाद डॉक्टरों ने प्रसूता को मृत घोषित कर दिया. इसके बाद प्रसूता का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराया गया. बानसूर थाने की पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

ये भी पढ़ें - पंचायत चुनाव ड्यूटी पर जा रहे मतदान कर्मी की तबीयत बिगड़ने से मौत

ये भी पढ़ें - डॉक्टर और SDM के बीच बहस का VIDEO वायरल, चिकित्सक संघ ने दी आंदोलन की चेतावनी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अलवर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 6:00 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर