तहसीलदार पर भड़के निर्दलीय विधायक, बोले- बहरोड़ में नहीं करने दूंगा नौकरी

अलवर जिले के बहरोड़ विधानसभा से निर्दलीय विधायक बलजीत यादव औचक निरीक्षण के दौरान बहरोड़ के तहसीलदार नाथूराम के नहीं मिलने पर भड़क गए.

Rajendra Prasad Sharma | News18 Rajasthan
Updated: June 19, 2019, 8:05 PM IST
Rajendra Prasad Sharma | News18 Rajasthan
Updated: June 19, 2019, 8:05 PM IST
अलवर जिले के बहरोड़ विधानसभा से निर्दलीय विधायक बलजीत यादव ने मंगलवार की शाम को बहरोड़ उपखंड कार्यालय का औचक निरीक्षण किया. इस दौरान तहसीलदार नाथूराम के ऑफिस में नहीं मिलने पर विधायक का पारा चढ़ गया और उन्होंने एसडीएम से तहसीलदार की उपस्थित के बारे में पूछा.

विधायक ने तहसीलदार को फोन मिलाकर पूछना चाहा कि वे कहां पर हैं तो तहसीलदार नाथूराम मीणा ने फोन नहीं उठाया. उसके बाद नाराज हो विधायक तहसीलदार के आवास पर पहुंच गए. वहां भी तहसीलदार के नहीं मिलने पर विधायक भड़क गए और एसडीएम सुभाष यादव को जांच के आदेश दे दिए.



मुख्यमंत्री से शिकायत कर कार्रवाई करने दी धमकी 
विधायक बलजीत यादव कहा कि जनता का कहना है कि तहसीलदार काम नहीं करते और वेश्यावृत्ति वाली कंजर बस्ती में जाते हैं. विधायक ने कहा अगर ये बात सही तो उसको बहरोड़ में नौकरी नहीं करने दूंगा. इस दौरान एसडीएम ने विधायक को बताया कि तहसीलदार किसी जांच के मामले में गोशाला में गए हुए हैं. तब भी विधायक बलजीत नहीं माने और जल्द से उसके खिलाफ मुख्यमंत्री से तहसीलदार की शिकायत कर उसके खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही.

विधायक ने धमकी भरे स्वर में कहा कि  तहसीलदार नाथूराम को रिटारमेंट होने में एक साल बचा है. उसके खिलाफ अन्य अधिकारियों से जांच कराकर सही सलामत घर नहीं भेजूंगा. उसकी पेंशन भी बंद हो जाएगी.

ये भी पढ़ें- डीजल चोरी के लिए घर तक बिछा डाली पाइपलाइन

अजमेर: खुलेआम रिश्वत लेते पुलिसकर्मियों का VIDEO VIRAL
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...