लाइव टीवी

मॉब लिंचिंग: भीड़ ने पुलिसकर्मियों को जमकर पीटा, थानेदार और सिपाही अस्पताल में भर्ती

Rajendra Prasad Sharma | News18 Rajasthan
Updated: September 14, 2019, 3:17 PM IST
मॉब लिंचिंग: भीड़ ने पुलिसकर्मियों को जमकर पीटा, थानेदार और सिपाही अस्पताल में भर्ती
अलवर जिले में पुलिस की स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही है. एक तरफ अपराधी पुलिस से बेखौफ हो रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ पब्लिक भी अब पुलिस पर हाथ आजमाने से नहीं चूक रही है. अस्पताल में भर्ती घायल उप निरीक्षक। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिसकर्मी शराब के नशे (Drunk) में धुत होकर पारिवारिक विवाद का निपटारा करने आए थे. मारपीट में घायल हुए दोनों पुलिसकर्मियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

  • Share this:
अलवर. राजस्थान के अलवर जिले में पुलिस (Police) में कानून-व्यवस्था की स्थिति गड़बड़ा गई है. जिले के मुंडावर थाना क्षेत्र (Mundavar) में पुलिस ही मॉब लिचिंग (Mob lynching) की शिकार बन गई. हिंसक भीड़ ने दो पुलिसकर्मियों की जमकर धुनाई कर डाली. ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिसकर्मी शराब के नशे (Drunk) में धुत होकर पारिवारिक विवाद का निपटारा करने आए थे. मारपीट में घायल हुए दोनों पुलिसकर्मियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

शराब के नशे में बताया जा रहा है एक पुलिसकर्मी
यह घटना मुंडावर के जागीवाड़ा गांव की है. बताया जा रहा है कि शुक्रवार रात सर्किल गश्त के दौरान भिवाड़ी पुलिस कंट्रोल रूम से सूचना मिली थी कि जागीवाड़ा गांव में दो महिलाओं को उनके ससुराल में बंधक बनाकर मारपीट की जा रही है. इसकी सूचना मिलने पर उप-निरीक्षक रामस्वरूप और कॉन्स्टेबल शिवरतन समेत 3-4 पुलिसकर्मी गांव में गए. इसी दौरान महिलाओं के पीहर पक्ष के लोग भी वहां पहुंच गए. ग्रामीणों का आरोप है पुलिसकर्मी शराब के नशे में धुत थे और जबरन महिलाओं को ले जाने की कोशिश कर रहे थे. ग्रामीणों ने कहा कि महिला पुलिसकर्मी के बिना वो महिलाओं को नहीं भेजेंगे. यह सुनकर पुलिसकर्मी उनसे उलझ पड़े.

अलवर के अस्पताल में चल रहा है दोनों का इलाज

ग्रामीणों के अनुसार एक पुलिसकर्मी के मुंह से शराब की बदबू आने पर लोगों ने उसे पकड़ लिया. अपने सहयोगी को बचाने की कोशिश कर रहे उप-निरीक्षक रामस्वरूप और कॉन्स्टेबल शिवरतन की तब भीड़ ने जमकर पीट डाला. घायल पुलिसकर्मियों का कहना कि ग्रामीणों ने उन्हें पीहर पक्ष के साथ आने और जबरन दबाव बनाकर महिलाओं को ले जाने की बात समझकर पिटाई कर दी. बाद में जैसे-तैसे कर के पुलिसकर्मियों को भीड़ से छुड़वाया गया और उन्हें स्थानीय अस्पताल ले जाया गया. वहां दोनों को प्राथमिक उपचार के बाद अलवर रेफर कर दिया गया.

साजिश या हिमाकत ! किसके इशारे पर हुआ बहरोड़ थाने पर AK-47 से हमला ?

बहरोड़ थाने पर AK-47 से हमले की साजिश थाने की एक कोठरी में ही रची गई थी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अलवर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 14, 2019, 1:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...