अपना शहर चुनें

States

पहलू खान मॉब लिचिंग केस: एसआईटी जुटी जांच में, घटनास्थल का लिया जायजा

घटनास्थल का जायजा लेती एसआईटी की टीम। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
घटनास्थल का जायजा लेती एसआईटी की टीम। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

राजस्थान की सियासत का केन्द्र बिन्दु बने अलवर (Alwar) के बहुचर्चित पहलू खान मॉब लिंचिंग (Pehlu Khan Mob lynching Case) के मामले में हाल ही में गठित की गई एसआईटी (SIT) ने जांच शुरू कर दी है.

  • Share this:
राजस्थान की सियासत का केन्द्र बिन्दु बने अलवर (Alwar) के बहुचर्चित पहलू खान मॉब लिंचिंग (Pehlu Khan Mob lynching Case) के मामले में हाल ही में गठित की गई एसआईटी (SIT) ने जांच शुरू कर दी है. एसआईटी की टीम ने बुधवार को बहरोड़ (Behror) पहुंचकर मामले से जुड़े घटनास्थल का जायजा लिया और उसकी फाइलों को खंगाला. एसआईटी को 15 दिन में अपनी जांच पूरी कर रिपोर्ट सौंपनी है.

मौका नक्शा बनाया, फाइलें खंगाली
बुधवार को बहरोड़ पहुंची टीम ने नेशनल हाइवे नंबर-8 और जागुवास चौक के समीप जहां पहलू खान और उंसके साथियों की पिटाई की गई थी उसका जायजा लिया. बाद में नक्शा मौका बनाकर वीडियो फुटेज के एंगल से जो साक्ष्य आज भी मौजूद है उसकी सत्यता को साबित करने के लिए तथ्य जुटाए. टीम ने बहरोड़ थाने में अलवर पुलिस से पहलू कांड से जुड़ी फाइल को लेकर उसका अध्ययन भी किया.

कोर्ट के फैसले के बाद गठित हुई है एसआईटी
14 अगस्त, 2019 को अलवर एडीजे कोर्ट नंबर 1 के द्वारा पहलू खान मॉब लिंचिंग मामले में 6 आरोपियों को बरी किए जाने के बाद सीएम अशोक गहलोत ने एसआईटी का गठन किया था. तीन सदस्यीय एसआईटी की टीम अब इस पूरे मामले की जांच करेगी. एसआईटी की यह देखेगी कि जांच में कहां-कहां लापरवाही बरती गई, जिसकी वजह से कोर्ट में पहलू खान का पक्ष कमजोर पड़ा.



15 दिन में अपनी रिपोर्ट देगी एसआईटी
एसआईटी 15 दिन में अपनी रिपोर्ट देगी. एडीजी क्राइम की निगरानी में गठित की गई एसआईटी को एसओजी के डीआईजी नितिनदीप ब्लग्गन लीड कर रहे हैं. उनकी टीम में सीआईडी (सीबी) एसपी समीर कुमार सिंह और एएसपी विजिलेंस समीर दुबे टीम को शामिल किया गया है.

यह था पूरा मामला
पहलू खान 1 अप्रैल, 2017 को अपने दो बेटों के साथ जयपुर के हटवाड़ा से गाय लेकर हरियाणा जा रहा था. उसी दौरान अलवर के बहरोड़ में भीड़ ने तीनों की जमकर पिटाई कर दी थी. इस पिटाई के तीन दिन बाद 4 अप्रैल, 2017 को बहरोड़ के कैलाश अस्पताल में इलाज के दौरान पहलू खान की मौत हो गई थी. करीब सवा दो साल बाद गत 14 अगस्त कोर्ट ने 6 आरोपियों को बरी कर दिया था. इस मामले में कोर्ट में चालान के बाद नियमित सुनवाई हुई थी, लेकिन पुलिस जांच में ऐसी कई खामियां रही जिनके चलते कोर्ट में पहलू खान का पक्ष कमजोर पड़ा और आखिर संदेह के लाभ पर आरोपी बरी हो गए.

पहलू खान मॉब लिंचिंग केस: SIT 15 दिन में अपनी रिपोर्ट देगी

Pehlu Khan Case: मायावती के ट्वीट पर BSP विधायक असहमत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज