लाइव टीवी

पॉक्सो कोर्ट का फैसला : 5 साल की नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को उम्रकैद की सजा

Rajendra Prasad Sharma | News18 Rajasthan
Updated: January 29, 2020, 7:00 PM IST
पॉक्सो कोर्ट का फैसला : 5 साल की नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को उम्रकैद की सजा
अलवर जिले के तिजारा थाना क्षेत्र के अंतर्गत पांच साल की नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी को पुलिस ने भरतपुर जिले के रानोता गांव से गिरफ्तार किया था.

पॉक्सो कोर्ट (POCSO Court) ने 5 साल की नाबालिग से दुष्कर्म (Minor Girl Raped) का आरोप सिद्ध हो जाने के बाद दोषी को उम्रकैद (Life Imprisonment) की सजा सुनाई.

  • Share this:
अलवर. पॉक्सो कोर्ट (POCSO Court) ने 5 साल की नाबालिग से दुष्कर्म (Minor Girl Raped) का आरोप सिद्ध हो जाने के बाद दोषी को उम्रकैद (Life Imprisonment) की सजा सुनाई. तिजारा थाना क्षेत्र के अंतर्गत 5 साल की नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी हरजीराम उर्फ़ तोताराम (26 वर्ष) निवासी बम्बोरा को कोर्ट ने 25 गवाहों के बयान और पत्रावली पर मौजूद साक्ष्यों के आधार पर आजीवन कारावास (जब तक जीवित है तब तक जेल में जिंदगी जीने) की सजा सुनाई. बता दें कि आरोपी द्वारा 5 साल की बच्ची को घर से टॉफी और कुरकुरे देने के बहाने बाइक पर बैठा कर गहनकर के पास ले जाकर दुष्कर्म और दरिंदगी की गई थी. इसके बाद आरोपी ने पीड़ित मासूम को लहूलुहान और बेहोशी की अवस्था में सुनसान जगह पर पटक कर चला गया था. ग्रामीणों के सहयोग से पीड़िता को पुलिस ने अस्पताल में भर्ती कराया और पुलिस ने आरोपी हरजीराम को 14 अक्टूबर को भरतपुर से गिरफ्तार किया था.

रिश्ते लेकर रोज आता था आरोपी

पीड़िता के परिजनों ने 7 अक्टूबर को रिपार्ट दर्ज करवाई थी कि आरोपी तीन-चार दिन से पीड़िता के मां-बाप के पास रिश्ते लेकर रोज आ रहा था. घटना वाले दिन भी आरोपी पीड़ित बच्ची के घर गया था, लेकिन मां-बाप के नहीं मिलने पर बच्ची को मोटरसाईकिल पर बैठाकर ले गया व जंगल में ले जाकर बच्ची
से दुष्कर्म कर उसे वहीं जंगल में छोड़ गया था. इसके बाद पुलिस ने बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया था और पुलिस ने ही बच्ची का गार्जियन बन कर उसका ऑपरेशन कराया था. इसके बाद पुलिस ने बच्ची के परिजनों को ढूंढ निकाला था.

25 गवाहों के बयान और पत्रावली पर मौजूद साक्ष्यों के बाद कोर्ट ने दिया फैसला

अलवर जिले के तिजारा थाना क्षेत्र के अंतर्गत पांच साल की नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी को पुलिस ने 14 अक्टूबर 2015 को भरतपुर जिले के रानोता गांव से गिरफ्तार किया था. इसके बाद पुलिस ने एक महीने में कोर्ट में चालान पेश किया था और पॉक्सो कोर्ट संख्या एक के न्यायाधीश अजय कुमार ने 25 गवाहों के बयान और पत्रावली पर मौजूद साक्ष्यों के आधार पर आरोपी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई.

ये भी पढ़ें - जयपुर में भर्ती Coronavirus संदिग्ध मरीज की रिपोर्ट नेगेटिव, अन्य 18 भी स्वस्थये भी पढ़ें - पंचायत चुनाव: तीसरे चरण का मतदान सम्पन्न,5 बजे बाद भी लगी रही कतारें

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अलवर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 29, 2020, 7:00 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर