Alwar: 2 मासूम बच्चियों से रेप की कोशिश के मामलों में पुलिस ने 72 घंटों में पेश किया चालान

एसपी तेजस्वनी गौतम ने कहा कि अलवर पुलिस महिलाओं और बच्चियों के साथ होने वाली इस तरह की घटनाओं को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी.
एसपी तेजस्वनी गौतम ने कहा कि अलवर पुलिस महिलाओं और बच्चियों के साथ होने वाली इस तरह की घटनाओं को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी.

अलवर पुलिस ने 2 मासूम बच्चियों से रेप की कोशिश (Attempt to rape) के मामलों में तत्काल कार्रवाई कर आरोपियों के खिलाफ महज 3 दिन में कोर्ट में चालान पेश कर उदाहरण पेश किया है.

  • Share this:
अलवर. पुलिस ने दो मासूम बालिकाओं से रेप की कोशिश (Attempt to rape) और अश्लीलता के मामले में आरोपियों के खिलाफ महज 72 घंटों में चालान पेश कर मिशाल पेश की है. पुलिस ने कोरोना के चलते अवकाश होने के बावजूद स्पेशल अनुमति (Special permission) लेकर कोर्ट में चालान पेश किया है. अलवर पुलिस कोर्ट से इनमें दिन-प्रतिदिन सुनवाई की अपील करेगी ताकि आरोपियों को जल्द से जल्द सजा मिल सके. दोनों प्रकरणों में पोक्सो एक्ट (Pocso Act) में मामले दर्ज किये गये हैं.

इनमें पहला मामला अलवर शहर में 21 सितंबर को हुआ. यहां 14 माह की दुधमुंही बच्ची से अश्लीलता और रेप की कोशिश की गई. यह घटना एनईबी थाना इलाके में हुई थी. यहां 14 माह की एक बच्ची के साथ 50 वर्षीय आरोपी पूरन द्वारा अश्लील हरकत की गई थी. इसका मामला बच्ची की मां ने महिला थाने में दर्ज कराया था. उस पर पुलिस ने तत्परता से आरोपी को हाथों-हाथ गिरफ्तार कर जेल भेज दिया और मामले का चालान भी पेश कर दिया.

Rajasthan: गहलोत सरकार ने बिजली पेनल्टी को लेकर किसानों को दी बड़ी राहत



बाल अपचारी को तुरंत निरुद्ध किया
वहीं दूसरा मामला पहले वाली घटना से एक दिन पहले हुआ. 20 सितंबर को एक बाल अपचारी ने 6 वर्षीय बालिका के साथ गलत हरकत की थी. मामले कि गंभीरता को देखते हुए एसपी तेजस्वनी गौतम खुद बच्ची के घर गयी और पूरी घटना की जानकारी ली. पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज कर बाल अपचारी को तुरंत निरुद्ध कर लिया है.

Rajasthan: 10 अक्टूबर के बाद कभी भी घोषित हो सकते हैं जिला परिषद और पंचायत समितियों के चुनाव

ताकि समाज को भी एक मैसेज मिल सके
एसपी तेजस्वनी गौतम ने कहा कि अलवर पुलिस महिलाओं और बच्चियों के साथ होने वाली इस तरह की घटनाओं को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी. उन्होंने बताया कि कोरोना के चलते अदालतें भी नियमित काम नहीं कर रही हैं. इसके बावजूद उन्होंने जिला सेशन जज से आग्रह करके इन मामलों का चालान पेश करवाया है ताकि समाज को भी एक मैसेज मिल सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज