राजस्थान: अलवर गैंगरेप मामले में राज्य सरकार ने जांच अधिकारी किया नियुक्त

राजस्थान के अलवर में थानागजी गैंगरेप मामले में बड़ी खबर आई है. राज्य सरकार ने मामले में अब एक जांच अधिकारी नियुक्त कर दिया है. जयपुर संभागीय आयुक्त केसी वर्मा अब इस मामले के जांच अधिकारी होंगे.

News18Hindi
Updated: May 15, 2019, 7:30 AM IST
राजस्थान: अलवर गैंगरेप मामले में राज्य सरकार ने जांच अधिकारी किया नियुक्त
राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत
News18Hindi
Updated: May 15, 2019, 7:30 AM IST
राजस्थान के अलवर में थानागजी गैंगरेप मामले में बड़ी खबर आई है. राज्य सरकार ने थानागजी गैंगरेप मामले में अब एक जांच अधिकारी नियुक्त कर दिया है. जयपुर संभागीय आयुक्त केसी वर्मा अब इस मामले के जांच अधिकारी होंगे. केसी वर्मा इस मामले की जांच के लिए अलवर पहुंच रहे हैं. 16 मई को केसी वर्मा थानागजी जाएंगे और 17 मई को अलवर सर्किट हाउस में जांच से जुड़े प्रगति पर समीक्षा करेंगे.

जानकारी के अनुसार गैंगरेप में पकड़े गए सभी आरोपी अलवर जिले के ही रहने वाले हैं. इनके सभी के गांव अलवर जिले में पास-पास ही हैं. आरोपियों में से दो ड्राइवरी के पेशे से जुड़े हैं तो अन्य दूसरे आरोपी छोटे-मोटे काम धंधों में लगे हुए हैं. आरोपियों में से इन्द्राज और हंसराज जीजा-साला हैं.



आरोपियों में शामिल छोटेलाल गुर्जर ट्रक ड्राइवर है. इसके खिलाफ पहले भी अवैध रूप से शराब का ठेका चलाने का मामला सामने आ चुका है. गैंगरेप का दूसरा आरोपी हंसराज गुर्जर आईटीआई कर रहा बताया जा रहा है. अन्य आरोपियों में इन्द्राज गुर्जर आजीविका के लिए ट्रैक्टर चलाने का काम करता है. अशोक गुर्जर चाय की दुकान पर काम करता है.

सांकेतिक फोटो


पीड़ित परिवार बदनामी से परेशान

अलवर जिले के थानागाजी गैंगरेप पीड़ित का परिवार लगातार हो रही बदनामी से परेशान हो चला है और अब यहां से विस्थापन होना चाहता है. पीड़ित परिवार के लोगो ने सरकार से अपील की है कि पीड़ित दंपति को सरकारी नौकरी दें और उनको यहां से ऐसी जगह विस्थापित करवाया जाए, जहां उनको कोई नहीं पहचान सके, जिससे वे अपना जीवन को शांति से जी सकें.

पीड़ित परिवार ने थानागाजी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए है. उन्होंने बताया कि पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करने के बाद पीड़िता के पति को रात पर जबरन थाने में बैठाए रखा और आरोपियों की गिरफ्तारी के कोई प्रयास नहीं किए. यही नहीं पुलिस आरोपियों के ठिकाने पर बैठ कर पीड़ित पक्ष को भी वहीं बुलाती थी. साथ ही आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस आरोपियों से मिली हुई थी इसलिए कोई कार्रवाई नहीं हुई.कब क्या हुआ?

26 अप्रैल…
वारदात का दिन : पीड़ित दंपती को सड़क से उठाया, सुनसान जगह ले जाकर दरिंदगी का वीडियो बनाया और युवती से गैंगरेप किया.

27 अप्रैल…
वारदात के बाद दोनों दंपती सहमे हुए थे किसी से कुछ नहीं कहा. पत्नी को ससुराल में छोड़ पति जयपुर चला गया.

28 अप्रैल…
पीड़िता के पति के पास गैंगरेप करने वाले पांच बदमाशों में से एक छोटेलाल का फोन आया. 10 हजार रुपये मांगे. नहीं देने पर वीडियो वायरल करने की धमकी दी.

29 अप्रैल…
युवती के ससुर को वीडियो वायरल करने और रुपये मांगने की बात का पता चला. पीड़िता के पति को जयपुर से गांव बुलाया गया. और वकील से मदद लेकर 26 अप्रैल को जो दरिंदगी हुई उस पर परिवाद तैयार करवाया गया.

ये भी देखें - PHOTOS : केदारनाथ में बाबा के दर्शन के लिए लागू टोकन व्यवस्था को सराह रहे श्रद्धालु

ये भी देखें - PHOTOS : बर्फबारी के बाद केदारनाथ की राह हुई कठिन, श्रद्धालु चल रहे संभल-संभल

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार