अपना शहर चुनें

States

अलवर: नीमराणा में आग से धधकी स्टील फैक्ट्री, ढाई घंटे की मशक्कत के बाद पाया गया काबू

बताया जा रहा है कि इस फैक्ट्री में हर साल आग लगती है. यह किसी कारण से लगती है या लगाई जाती है ये जांच का विषय है.
बताया जा रहा है कि इस फैक्ट्री में हर साल आग लगती है. यह किसी कारण से लगती है या लगाई जाती है ये जांच का विषय है.

अलवर के नीमराणा (Neemrana) में आज सुबह एक स्टील फैक्ट्री में लगी भीषण आग (Fierce fire) से हड़कंप मच गया. आग पर करीब ढाई घंटे की मशक्कत के बाद काबू पाया जा सका.

  • Share this:
अलवर. जिले के नीमराणा (Neemrana) में सोमवार को एक फैक्ट्री में सुबह अचानक भीषण आग (Fierce fire) लग गई. आग से लाखों रुपयों का नुकसान होने की आशंका है. आग की सूचना पर पुलिस-प्रशासन ने मौके पर पहुंचकर उस पर काबू पाने के प्रयास करवाये. आग लगने के कारणों का अभी तक कोई खुलासा नहीं हो पाया है. फैक्ट्री में स्टील के बर्तन (Steel vessel) बनाने समेत अन्य प्रोडक्शन का काम होता है. गनीमत रही कि आग से कोई जनहानि नहीं हुई.

जानकारी के अनुसार आग नीमराणा के औद्योगिक क्षेत्र में ईपीआईपी के पास स्थित आकृति फैक्ट्री में लगी. अलसुबह आग की लपटें देखकर वहां हड़कंप मच गया. आग फैलने की स्पीड इतनी तेज थी कि कुछ ही देर में आग की लपटें बाहर तक दिखाई देने लग गई. सूचना पर पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे. आग पर काबू पाने के लिये नीमराणा और बहरोड़ दमकलों को वहां बुलाया गया. लेकिन तब तक आग विकराल रूप धारण कर चुकी थी. इससे दमकलकर्मियों को आग पर काबू पाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी.

निकाय चुनाव परिणाम: कांग्रेस की जीत के बावजूद 4 मंत्रियों और 18 विधायकों के क्षेत्रों में पार्टी को नहीं मिला बहुमत

इस फैक्ट्री में हर साल आग लगती है आग


हालात बेकाबू होते देखकर स्थानीय प्रशासन ने भिवाड़ी, खैरथल और खुशखेड़ा से भी दमकलों को बुलाया. करीब दो से ढाई घंटे तक फैक्टी में आग धधकती रही. उसके बाद बमुश्किल उस पर काबू पाया जा सका. रविवार को अवकाश होने के कारण फैक्ट्री में एक गार्ड के अलावा कोई नहीं था, जिससे बड़ी अनहोनी होने से टल गई. बताया जा रहा है कि इस फैक्ट्री में हर साल आग लगती है. यह किसी कारण से लगती है या लगाई जाती है ये जांच का विषय है. आग को बुझाने के उचित उपकरण फैक्ट्री में नहीं लगे होने के कारण वे समय पर काम नही कर पाते हैं और प्रतिवर्ष लाखों का नुकसान होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज