अलवर में नकली दूल्हा ने बताया बाल विवाह की तैयारी का सच

अलवर में बाल विवाह का एक मामला सामने आया है. पुलिस को जब इसकी भनक लगी तो घर वालों ने बच्चे के चाचा को नकली दूल्हा बनाकर बैठा दिया. जब उससे पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो उसने बाल विवाह की तैयारी का सच बता दिया.

Rajendra Prasad Sharma | News18 Rajasthan
Updated: April 17, 2018, 1:35 PM IST
अलवर में नकली दूल्हा ने बताया बाल विवाह की तैयारी का सच
राहुल नाम के बच्चे की शादी का छपा था कार्ड
Rajendra Prasad Sharma | News18 Rajasthan
Updated: April 17, 2018, 1:35 PM IST
अलवर जिले में आखातीज के मौके पर नाबालिगों की शादी थमने ला नाम नही ले रही है. बाल कल्याण समिति ने एमआईए थाना पुलिस के जरिए शादी रुकवाई है और परिजनों को चेतावनी है. अलवर के एमआईए थाना क्षेत्र के बख्तल की चौकी गांव में 5 वीं कक्षा में पढ़ने वाले 12 वर्षीय बच्चे की शादी की रस्में हो रही थी. बाल कल्याण समिति ने हस्तक्षेप कर लड़के को बाल आश्रय गृह भेज दिया है ताकि उसकी शादी न हो.

इस पूरे मामले में दिलचस्प बात यह है कि शादी रुकवाने जब पुलिस पहुंची तो परिजनों को भनक लग गई यो उन्होंने दूल्हे के चाचा को हल्दी लगाकर दूल्हा बना दिया और पुलिस को सुपुर्द कर दिया. पुलिस फर्जी दूल्हे को बाल कल्याण समिति के समक्ष लेकर पहुंची तो समिति को शक होने पर गहनता से पूछताछ की गई. इसके बाद फर्जी दूल्हे ने पूरी कहानी बता दी. इसके बाद बाल कल्याण समिति ने एमआईए थाना पुलिस को नाबालिग दूल्हे को लेकर आने के निर्देश दिए. तब पुलिस जिस बालक की शादी 18 अप्रैल को होनी है उस बालक को लेकर आई. अब वह नाबालिग दूल्हा ठाकुरदास शिक्षा समिति के बाल आश्रय गृह में है.

बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष श्रवण सिंघल ने बताया कि 18 अप्रैल को नाबालिग राहुल की शादी होनी थी इसके लिए बाकायदा कार्ड छपवाए गए थे. जब तक शादी की तारीख नहीं निकल जाती तब तक यह बच्चा समिति के संरक्षण में रहेगा. उद्योग नगर थाना पुलिस को निर्देश दिए हैं कि वह राहुल के माता-पिता को चेतावनी दे कि जब तक वह बालिग नहीं हो जाए तब तक उसकी शादी न करें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर