होम /न्यूज /राजस्थान /अलवर की प्यास बुझाएगी सिलीसेढ़ झील, सिंचाई विभाग ने राजस्थान सरकार के पास मंजूरी के लिए भेजा प्लान

अलवर की प्यास बुझाएगी सिलीसेढ़ झील, सिंचाई विभाग ने राजस्थान सरकार के पास मंजूरी के लिए भेजा प्लान

Water Supply Scheme: अलवर शहर के लिए प्रतिदिन 574 लाख लीटर की पानी की जरूरत होती है, लेकिन जलदाय विभाग शहरवासियों को के ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट: पीयूष पाठक

अलवर. अलवर शहर के 5 लाख लोगों की सालों पुरानी पेयजल समस्या का निराकरण सिलीसेढ़ झील से हो सकेगा. हालांकि, सिलीसेढ़ झील अभी तक पर्यटन स्थल के रूप में विख्यात रही है. लेकिन, यहां से शहर को पानी भी​ मिलेगा. सिंचाई विभाग ने सिलीसेढ़ झील से हर साल अलवर शहर के लिए 2800 लाख लीटर पानी दिए जाने का प्रस्ताव तैयार कर मंजूरी के लिए राज्य सरकार को भेजा है.

अलवर शहर में पेयजल समस्या पुरानी है. इसका बड़ा कारण अलवर के आसपास के क्षेत्रों में भूजल स्तर में भारी गिरावट का होना है. अलवर शहर के पास सिलीसेढ़ झील ही एकमात्र जलस्रोत है, जहां से अलवर शहर में पानी लाया जा सकता है. पूर्व में भी सिलीसेढ़ झील से अलवर तक पानी लाने के प्लान बने, लेकिन कारगर नहीं हो पाए. अलवर शहर में बढ़ती पेयजल समस्या के निराकरण लिए अब जिला प्रशासन एवं प्रमुख शासन सचिव शिखर अग्रवाल के निर्देश पर सिंचाई विभाग ने झील से अलवर शहर के लिए पानी देने के लिए प्रस्ताव तैयार कर राज्य सरकार को मंजूरी के लिए भेजा है.

झील पर निर्भरता

सिंचाई विभाग ने गत 10 सालों में सिलीसेढ़ झील में पानी की उपलब्धता को आधार मानकर अलवर शहर में पेयजल सप्लाई का प्रस्ताव तैयार किया है. इसके अलावा मत्स्य पालन और सिंचाई के लिए पानी आरक्षित किया जाएगा. प्रस्ताव के तहत सिलीसेढ़ में 181 मिलियन क्यूबिक मीटर यानी 15 फीट पानी मत्स्य पालन, पर्यटन और बोटिंग के लिए आरक्षित रखा जाएगा. सिंचाई विभाग के लिए 75 मिलियन क्यूबिक मीटर पानी आरक्षित किया जाएगा. वहीं 2800 लाख लीटर यानी 100 एमसीएफटी पानी अलवर शहर को पेयजल के लिए दिए जाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है. सिलीसेढ़ झील की भराव क्षमता 492 मिलियन क्यूबिक फीट है.

पानी लाने का जिम्मा जलदाय विभाग का

राज्य सरकार की ओर से प्रस्ताव को मंजूरी मिली तो सिलीसेढ़ से अलवर शहर तक पानी लाने का जिम्मा जलदाय विभाग का रहेगा. इसमें पानी लाने के लिए पाइप बिछाने, ट्रीटमेंट प्लांट बनाने सहित अन्य कार्य जलदाय विभाग की ओर से कराए जाएंगे. झील से अलवर शहर तक पानी लाने के लिए जलदाय विभाग को 11.14 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन डालनी होगी. यह पाइपलाइन सिलीसेढ़ झील से श्योदानपुरा, उमरैण, भाखेड़ा होती हुई जलदाय विभाग के वॉटर वर्क्स तक डाली जाएगी.

प्रतिदिन 574 लाख लीटर पानी की जरूरत

अलवर शहर के लिए प्रतिदिन 574 लाख लीटर की पानी की जरूरत होती है, लेकिन जलदाय विभाग शहरवासियों को केवल 310 लाख लीटर ही पानी उपलब्ध करा पा रहा है. अलवर शहर में पानी की मांग व सप्लाई में 264 लाख लीटर पानी का बडा अंतर है. यही अलवर शहर में पेयजल समस्या का कारण है. सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता संजय खत्री ने बताया कि सिलीसेढ़ से पानी लाने का प्रस्ताव तैयार मंजूरी के लिए राज्य सरकार को भेजा गया है. प्रस्ताव के तहत सिलीसेढ़ झील में विभिन्न उपयोग के लिए पानी आरक्षित किया जाना है.

Tags: Alwar News, Rajasthan news, Rajasthan water crisis

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें