अमित शाह से मिलींं वसुंधरा राजे, राजस्थान में यात्रा निकालेगी बीजेपी

इस साल राजस्थान में विधानसभा चुनाव और अगले साल लोकसभा चुनावों की तैयारियों के मद्देनजर यह बैठक हुई है. पार्टी के एक नेता ने बताया कि राज्य और केंद्र सरकारों के कार्यों के प्रचार के लिए राजस्थान में यात्रा नि

भाषा
Updated: June 13, 2018, 11:45 PM IST
अमित शाह से मिलींं वसुंधरा राजे, राजस्थान में यात्रा निकालेगी बीजेपी
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने राजस्‍थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से मुलाकात की. (File Photo)
भाषा
Updated: June 13, 2018, 11:45 PM IST
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आज मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सहित राजस्थान और आंध्रप्रदेश से पार्टी के शीर्ष नेताओं से गहन वार्ता की. इस साल राजस्थान में विधानसभा चुनाव और अगले साल लोकसभा चुनावों की तैयारियों के मद्देनजर यह बैठक हुई है. पार्टी के एक नेता ने बताया कि राज्य और केंद्र सरकारों के कार्यों के प्रचार के लिए राजस्थान में यात्रा निकालने का फैसला किया गया. यह फैसला ऐसे वक्त किया गया है जब खासकर पिछले कुछ उपचुनावों में कांग्रेस ने अच्छा प्रदर्शन किया है.

अप्रैल में राजस्थान के प्रदेश प्रमुख अशोक परनामी के पद से हटने के बाद प्रदेश इकाई का अगला प्रमुख कौन होगा इसको लेकर अटकलों के बीच शाह की अध्यक्षता में राजे, पार्टी के कुछ राष्ट्रीय महासचिव और प्रदेश के वरिष्ठ नेताओं ने आगामी चुनाव के लिए रणनीति तैयार की. बताया जाता है कि प्रदेश भाजपा प्रमुख के पद को लेकर शाह और राजे के बीच मतभेद है.

सूत्रों ने बताया कि राज्य और केंद्र सरकार की उपलब्धियों के बारे में लोगों को बताने के लिए सघन अभियान चलाने तथा यात्रा निकालने का भी फैसला किया गया. उन्होंने बताया कि पार्टी के आंध्रप्रदेश के नेताओं के साथ शाह की बैठक में फैसला किया गया कि तीन केंद्रीय मंत्री- नितिन गडकरी, पीयूष गोयल और प्रकाश जावडेकर केंद्र सरकार के कार्यों के प्रचार के लिए राज्य के तीन मुख्य क्षेत्रों का दौरा करेंगे. बैठक में पार्टी के प्रदेश प्रमुख कन्ना लक्ष्मीनारायण भी मौजूद थे.

राज्य की दोनों मुख्य पार्टियां सत्तारूढ़ तेदेपा और विपक्षी वाईएसआर कांग्रेस 2014 में दक्षिणी राज्य के विभाजन के वक्त केंद्र की ओर से किये गए वादों को कथित तौर पर पूरा नहीं करने के लिए मोदी सरकार पर हमला कर रही है. भाजपा का मानना है कि दुष्प्रचार के मुकाबले के लिए राज्य में वृहत स्तर पर संपर्क कार्यक्रम चलाने की जरूरत है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर