होम /न्यूज /राजस्थान /आदिवासी अंचल में बदलाव की बयार: पिता ने हेलिकॉप्टर से किया बेटी को ससुराल विदा, भावुक हुई मां

आदिवासी अंचल में बदलाव की बयार: पिता ने हेलिकॉप्टर से किया बेटी को ससुराल विदा, भावुक हुई मां

दुल्हन की मां की इच्छा थी बेटी की शादी कुछ हटकर होनी चाहिए.

दुल्हन की मां की इच्छा थी बेटी की शादी कुछ हटकर होनी चाहिए.

Winds of Change in Tribal Areas of Rajasthan: राजस्थान का आदिवासी अंचल भी अब बदलाव की ओर चल पड़ा है. यहां भी एक पिता ने ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

बांसवाड़ा शहर में हुई थी शादी
मां त्रिपुरा के दरबार से किया बेटी को विदा
हेलिकॉप्टर देखने के लिए उमड़ी ग्रामीणों की भीड़

आकाश सेठिया.

बांसवाड़ा. राजस्थान में ब्याह-शादियों में हेलिकॉप्टर (Helicoptar) का चलन तेजी से बढ़ रहा है. हेलिकॉप्टर से बेटी को विदा करने का एक नया मामला राजस्थान के आदिवासी बाहुल्य बांसवाड़ा जिले (Banswara District) में सामने आया है. यहां एक मार्बल कारोबारी की पत्नी की इच्छा थी कि जब उनकी बेटी की शादी हो तो कुछ ऐसा होना चाहिए जो आदिवासी अंचल में अभी तक नहीं हुआ. ऐसे में उन्होंने अपनी पत्नी की इच्छा का मान रखते हुए अपनी बेटी को शादी के बाद हेलीकॉप्टर से झालावाड़ के लिए विदा किया है. इस दौरान वहां ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी.

जानकारी के अनुसार बांसवाड़ा शहर के शिव कॉलोनी निवासी राजसिंह चौधरी ने अपनी बेटी की शादी माता त्रिपुरा सुंदरी के दरबार से की है. शादी के बाद शुक्रवार को दोपहर में करीब 12:45 पर उन्होंने झालावाड़ के लिए हेलीकॉप्टर से बेटी को विदा किया. राज सिंह चौधरी ने बताया कि पत्नी सीता की इच्छा थी जब भी बेटी की शादी हो तो बड़े ही धूमधाम से और अनोखे तरीके से होनी चाहिए. उन्होंने अपनी बेटी विनीता उर्फ अर्चना की शादी आशीष उर्फ जयंत पुत्र विजेंद्र सिंह निवासी झालावाड़ के साथ की है.

मां त्रिपुरा सुंदरी के धोक लगाने के बाद किया विदा
1 दिसंबर से ही तमाम रस्में घर परिवार के लोगों की मौजूदगी में की जा रही थी. गुरुवार रात्रि में शादी समारोह का आयोजन शहर के एक निजी वाटिका में किया गया. विदाई का वक्त आया तो दूल्हा दुल्हन को कार के जरिए माता त्रिपुरा सुंदरी दरबार ले जाया गया. यहां पर दोनों ही परिवारों के लोगों ने माता त्रिपुरा सुंदरी के दरबार में धोक लगाई. इसके बाद उन्होंने अपनी बेटी को त्रिपुरा सुंदरी दरबार के पिछले हिस्से में बने हेलीपैड से झालावाड़ के लिए रवाना किया है.

मार्बल के कारोबार से जुड़ा है पूरा परिवार
बांसवाड़ा शहर की शिव कॉलोनी में रहने वाला चौधरी का परिवार मार्बल कारोबार से जुड़ा हुआ है. यह कारोबार उदयपुर संभाग के कई जिलों के साथ ही अन्य क्षेत्रों में भी है. हेलीकॉप्टर के लिए पैसा खर्च करना बड़ी बात नहीं है पर बड़ी बात यह है कि चौधरी ने बेटी को अपने खर्चे पर विदा किया है. अन्यथा रीति रिवाज के अनुसार दूल्हा पक्ष के लोग दुल्हन को अपने हिसाब से अपनी सार्मथ्यनुसार वाहन में ले जाते हैं.

Tags: Banswara news, Helicopter, Marriage news, Rajasthan news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें