होम /न्यूज /राजस्थान /

सोते युवक के पैरों में लिपटा कोबरा, अचानक उठा तो कर दिया हमला, देखें VIDEO

सोते युवक के पैरों में लिपटा कोबरा, अचानक उठा तो कर दिया हमला, देखें VIDEO

युवक की शिव में गहरी आस्था, 44 दिन से मंदिर में सो रहा है

युवक की शिव में गहरी आस्था, 44 दिन से मंदिर में सो रहा है

Cobra in shiva temple : भगवान में अटूट विश्वास आपको हर बड़ी मुश्किलों से दूर कर देता है. ऐसा ही कुछ बांसवाड़ा के मंदारेश्वर मंदिर परिसर में हुआ. एक युवक आस्था के चलते मंदिर में 44 दिन से सो रहा है. वह नेशनल हाइवे विभाग में आईसीटी मैनेजर है. अर्द्ध रात्रि में उस पर कोबरा ने हमला किया, लेकिन नींद खुल जाने से वह बाल—बाल बच गया.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

आकाश सेतिया. 

बांसवाड़ा. बांसवाड़ा के अर्द्ध रात्रि में एक ऐसी घटना सीसीटीवी में कैद हो गई, जिसे देखकर लोगों के रोंगटे खड़े हो गए. मंदिर में फर्श पर चादर ओढ़कर सो रहे एक युवक पर कोबरा सांप ने हवा में उछलकर हमला किया. किस्मत अच्छी रही कि युवक बच गया. सांप से दूरी के कारण युवक को संभलने का मौका मिल गया. इसके बाद सांप भी वहां से भाग गया. घटना का सीसीटीवी फुटेज सामने आया है.

मंदारेश्वर मंदिर रतलाम रोड पर अरावली पर्वत मालाओं के बीच में है. यहां रात में तेंदुए जैसे जंगली जानवर आते हैं. इनसे भी लोगों को भय बना रहता है. शहर के एक छोर पर बसे इस मंदिर के किनारों पर अधिकतर कोबरा प्रजाति के सांप दिखते हैं.

भगवान शिव में गहरी आस्था, मंदिर में सोता था युवक
कोबरा की घटना बांसवाड़ा निवासी जय उपाध्याय पुत्र माधो उपाध्याय के साथ हुई. जय की भगवान शिव में गहरी आस्था है. वह 44 दिन से मंदिर परिसर में सो रहा है. हमेशा की तरह रात 10 बजे करीब जय मंदिर में शिवलिंग के सामने फर्श पर दरी बिछाकर और चादर ओढ़कर सो गया. तभी रात करीब 12 बजे कोबरा सांप उसके बिस्तर में घुस गया। कुछ देर बाद उसे बिस्तर में किसी जीव के होने का अहसास हुआ, तो वह तुरंत दूसरे छोर पर खड़ा हो गया। इस दौरान सांप ने हवा में उछलकर उस पर हमला करने की कोशिश की.

सुर्खियों में मदेरणा परिवार: कभी पिता-पुत्र थे विधायक और जिला प्रमुख, अब मां-बेटी पावर में

तीन मिनट तक युवक की जांघ से लिपटा रहा कोबरा
जय ने बताया कि 2—3 मिनट तक सांप उसकी जांघ पर लिपटा रहा. इसके बाद उसने करवट ली तो सांप भी हिला. इस दौरान उसने बिस्तर में मेंढक घुसने का सोचकर पैर से उसे दूर करने की कोशिश की. तभी उसे लगा कि यह मेंढक नहीं कोई और जीव है. इस अहसास मात्र से ही वह चादर लेकर खड़ा हो गया. देखा तो पता चला कि बिस्तर में कोबरा सांप था. गनीमत रही कि वो सांप की पकड़ से दूर हो गया. इसके बाद कोबरा सांप भी दूसरी ओर भाग गया.


सीसीटीवी फुटेज में देखा तो रोंगटे खड़े हो गए

बांसवाड़ा के नेशनल हाइवे विभाग में बतौर आईसीटी मैनेजर सेवाएं दे रहे जय उपाध्याय ने बताया कि रात में कोबरा होने पर वह इतने भयभीत नहीं हुए. घटना के बाद उन्होंने मोबाइल में समय देखा. उन्हें लगा कि सोमवार का दिन लग गया है. सांप के तौर पर भगवान उसे दर्शन देने आए थे. थोड़ी देर बाद वह फिर उसी बिस्तर पर सो गया. उपाध्याय का कहना है कि सुबह उन्होंने सीसीटीवी फुटेज में खुद को और सांप को देखा तब जरूर उनके रोंगटे खड़े हो गए.

मंदिर में रात में आ जाते हैं तेंदुए और अन्य जानवर
उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर की तरह मंदारेश्वर शिवलिंग पर भी भस्म चढ़ाई जाती है. सुबह 5 बजे यहां भस्म आरती भी होती है। जय उपाध्याय मूल रूप से उज्जैन के रहने वाला है, इसलिए उसकी भगवान के प्रति आस्था अटूट है। मंदारेश्वर मंदिर रतलाम रोड पर अरावली पर्वत मालाओं के बीच में है. यहां रात में तेंदुए जैसे जंगली जानवर आते हैं. शहर के एक छोर पर बसे इस मंदिर के किनारों पर अधिकतर कोबरा प्रजाति के सांप दिखते हैं.

Tags: Banswara news, Hindu Temple, Rajasthan news in hindi, Temple

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर