बारां में मौसमी बीमारियों का कहर, 2 बच्चों की मौत, दर्जनों पीड़ित भर्ती

Vipin Tiwari | News18 Rajasthan
Updated: September 3, 2019, 2:25 PM IST
बारां में मौसमी बीमारियों का कहर, 2 बच्चों की मौत, दर्जनों पीड़ित भर्ती
केलवाड़ा कस्बे के निकट खंडेला क्षेत्र के टोडिया पंचायत के कालीमाटी के गांव में भी मौसमी बीमारी ने अपने पांव पसार दिए हैं. वहां मंगलवार को उल्टी दस्त के दो दर्जन से अधिक मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

बारां जिले (Baran district) में मौसमी बीमारियों (seasonal diseases) का कहर थमने का नहीं ले रहा है. 3 दिन पहले सूखा सेमली गांव में 2 बच्चों (Two children died) की समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण मौत (Death) हो गई थी. अब केलवाड़ा इलाके के कालामाटी गांव में उल्टी-दस्त (Vomiting-diarrhea) का प्रकोप हो गया.

  • Share this:
बारां जिले (Baran district) में मौसमी बीमारियों (seasonal diseases) का कहर थमने का नहीं ले रहा है. 3 दिन पहले सूखा सेमली गांव में 3 दर्जन से अधिक लोगों को चिकित्सालय में भर्ती (admit) कराया गया था. उनमें से 2 बच्चों (Two children died) की समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण मौत (Death) हो गई थी. वहीं अब केलवाड़ा इलाके के कालामाटी गांव में उल्टी-दस्त (Vomiting-diarrhea) का प्रकोप होने के बाद 28 लोगों को चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है. बीमारियों का प्रकाेप सहरिया आदिवासी (Sahariya tribal) बहुल इलाकों में फैल रहा है.

कालीमाटी के गांव में उल्टी-दस्त का प्रकोप
बारां जिले में इन दिनों मौसमी बीमारियों का भारी प्रकोप फैला हुआ है. अब यह लोगों के लिए जानलेवा बन गया है. केलवाड़ा कस्बे के निकट खंडेला क्षेत्र के टोडिया पंचायत के कालीमाटी के गांव में भी मौसमी बीमारी ने अपने पांव पसार दिए हैं. वहां मंगलवार को उल्टी-दस्त के दो दर्जन से अधिक मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उनमें से एक बालक को बारां रेफर किया गया है.

एक पीड़ित को बारां रेफर किया

कालीमाटी गांव में 70 से 80 सहरिया परिवार निवास करते हैं. इनमें से कुछ परिवारों के लोगों के मंगलवार को अचानक पेट में दर्द हुआ और उल्टी-दस्त होने लगे. देखते ही देखते करीब दो दर्जन से ज्यादा लोग इससे पीड़ित हो गए. इस पर उन्हें केलवाड़ा के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. यहां से बादल सहरिया (10) की हालत ज्यादा खराब होने के कारण उसे बारां रेफर कर दिया गया है.

दूषित पानी से बीमारियों की आशंका
अस्पताल में भर्ती मरीज कल्याण और इंद्र सहरिया ने बताया कि गांव में एक बोरिंग ट्यूबवैल है. उसी से पूरा गांव पानी पीता है, लेकिन बोरिंग के आसपास गंदगी भरी रहती है. आशंका है कि कहीं ना कहीं पीने के दूषित पानी से लोग उल्टी-दस्त के शिकार हुए हैं.
Loading...

1-1 बेड पर 3-3 मरीज लेटे हुए हैं
उल्लेखनीय है कि बारां जिले में आदिवासियों को पीने का शुद्ध पानी भी बड़ी मुश्किल से मिलता है. मौसमी बीमारियों के प्रकोप का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि सरकारी और निजी चिकित्सालय मरीजों से भरे पड़े हैं. सरकारी अस्पतालों की हालत तो यह है कि वहां 1-1 बेड पर 3-3 मरीज लेटे हुए हैं.

Alert: राजस्थान में भी आ धमका जानलेवा कांगो फीवर

RSS प्रमुख भागवत पहुंचे जयपुर,11 सितंबर तक पुष्कर में रहेंगे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बारां से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 2:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...