अपना शहर चुनें

States

बारां: गाय की मौत पर समाज के लोगों ने युवक को गांव से निकाला

समाज के इस फैसले से अंधेरे और अकेलेपन में दिवाली मनाने को मजबूर हुआ युवक
समाज के इस फैसले से अंधेरे और अकेलेपन में दिवाली मनाने को मजबूर हुआ युवक

बारां (Baran) जिले में समाज के लोगों ने तुगलकी फरमान सुनाते हुए युवक को 40 दिनों के लिए गांव से बाहर निकाल दिया है.

  • Share this:
बारां. राजस्थान (Rajasthan) के बारां (Baran) जिले में समाज के लोगों ने तुगलकी फरमान सुनाते हुए युवक को 40 दिनों के लिए गांव से बाहर निकाल दिया है. युवक को घर से बाहर खेतों में रात गुजारना पड़ रहा है. बारां जिले के अंता कस्बे के रायपुरिया गांव का मामला है.

पूरा मामला 

दरअसल, रायपुरिया निवासी चंद्रप्रकाश केवट कुछ दिनों पहले खेत पर दूर से ही गाय को आवाज देकर भगा रहा था. इस दौरान गाय अचानक खाई में गिरकर मर गई. इसके चकते कीर समाज (Kir society) के लोगों ने युवक पर झूठा आरोप लगाते हुए गांव से बाहर निकाल दिया. एक ओर जहां लोग दीपावली आने की खुशियां मना रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ इस युवक की दिवाली अंधेरे और अकेलेपन में गुजरेगी.



बहिष्कार-boycott
दिन भर नदी किनारे बैठा रहता है युवक

समाज के इस फरमान के मुताबिक युवक 40 दिन तक गांव में नहीं घुसेगा और ना ही कोई इसे गांव के अंदर लाएगा. साथ ही इससे कोई नहीं मिल सकेगा. युवक दिन भर नदी किनारे बैठा रहता है और रात होने पर खेतों में सो जाता है. बता दें कि रायपुरिया निवासी चंद्रप्रकाश के परिवार में मां-बाप के अलावा पत्नी और 4 बच्चे हैं.

बहरहाल, समाज के इस फरमान के बारे में प्रशासन तक को कोई जानकारी नहीं है. ऐसे में अब देखने वाली बात होगी कि क्या इस युवक को न्याय मिलेगा या अपने घर वालों के बगैर अंधेरे और अकेलेपन में ही दिवाली मनानी पड़ेगी.

ये भी पढ़ें:- अलवर: आर्मी के लिए दूध लेकर गए ट्रक चालक की आतंकवादी हमले में मौत, घर में पसरा मातम

ये भी पढ़ें:- भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर की तारबंदी में फंसा मिला GPS लगा साइबेरियन बर्ड
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज