इनके चक्कर में पड़े तो शादी नहीं, होगी बर्बादी! पढ़ें-कैसे लोगों को शिकार बनाती है ठग दुल्हन?

सांकेतिक फोटो..

सांकेतिक फोटो..

False Wedding-Thug Bride: राजस्थान के बारां में रुपए लेकर झूठी शादी कराने वाला गिरोह पुलिस के हत्थे चढ़ा है. 4 सदस्यों के इस ग्रुप में दो महिलाएं और दो पुरुष शामिल हैं.

  • Share this:

बारां. राजस्थान (Rajasthan) के बारां में रुपए लेकर झूठी शादी कराने वाला गिरोह पुलिस के हत्थे चढ़ा है. 4 सदस्यों के इस ग्रुप में दो महिलाएं और दो पुरुष शामिल हैं. यह गिरोह अविवाहित युवकों से रुपए लेकर उनकी शादी करवा देते थे और रुपए मिलते ही दुल्हन शादी के बाद रफूचक्कर हो जाती थी.

पुलिस के मुताबिक इस गिरोह ने बलहारपुर निवासी रामनिवास मेघवाल से शादी के नाम पर 1 लाख 10 हजार की ठगी की थी. गिरोह के मुखिया को रकम मिलते ही फर्जी दुल्हन फरार हो गई. इस मामले में परिवादी रामनिवास ने 27 मई को कवाई थाने में रिपोर्ट दी कि आठ दिन पहले उसके घर हलेसरा निवासी जोधराज आया और बड़े भाई मांगीलाल से कहा कि डेढ़ लाख रुपए देने पर मेरा (रामनिवास) का विवाह करवा देगा.

इस पर मांगीलाल ने जोधराज को 20 हजार रुपए एडवांस में दे दिए. रामनिवास, उसका भाई और गांव के नीरज मीणा, रामकरण मेघवाल, ओमप्रकाश सभी जोधराज के बुलाने पर उसके घर कोटड़ी चले गए. वहां पर जोधराज और कड़ैयावन निवासी नंदकिशोर मिला. उन्होंने वहां मौजूद लड़की रानी से रामनिवास की शादी करवा दी. दोनों रानी को लेकर रामनिवास के घर पर छोड़ने आए. बाकी रुपयों का तकाजा करने पर नंदलाल व जोधराज को 90 हजार रुपए दे दिए.

फिर फरार हो गई पत्नी
27 मई को दिन में जोधराज रामनिवास के घर पर आया और रानी को मोबाइल दिया. जोधराज ने रामनिवास को दुकान से गुटखा व सिगरेट लेने के लिए भेज दिया. वह वापस आया तब तक जोधराज, रामनिवास की पत्नी से बातचीत कर चला गया था. शाम को खाना खाने के बाद रामनिवास को उसकी पत्नी रानी ने चॉकलेट खिलाई, जो उसको जोधराज देकर गया था. फिर चाय बनाकर पिलाई, जिससे रामनिवास जल्द सो गया. रात लगभग ढाई बजे रामनिवास की नींद खुली, तो उसकी पत्नी नहीं मिली.

पुलिस ने की कार्रवाई

रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू क. एसपी विनीत बंसल के निर्देश पर डीएसपी अटरू श्योजीलाल ने जांच शुरू की. गठित टीम ने तकनीकी सहायता एवं मुखबिर की सूचना पर गिरोह के सरगना जोधराज धाकड़ व अन्य सहयोगी नजमा, नंदकिशोर एवं फर्जी दुल्हन नीलू उर्फ रानी को गिरफ्तार किया गया.



पूछताछ में खुले ये राज

आरोपियों से पूछताछ में सामने आया कि गिरोह का मुखिया जोधराज, नजमा एवं सहयोगीनंदकिशोर धाकड़ लोगों को शादी का लालच देकर उनसे मोटी रकम वसूल कर उनकी शादी करवाते थे. फिर योजनाबद्ध तरीके से शादी की गई फर्जी दुल्हन को एक-दो दिन बाद वापस भगाने की योजना बनाकर सुसराल से भगा देते थे. कार्रवाई के दौरान पुलिस टीम में थानाधिकारी कवाई किरदार अहमद, एएसआई प्रकाशचंद, हैड कांस्टेबल सत्येंद्र सिंह साइबर सेल बारां, हेड कांस्टेबल कौशल किशोर अटरू डीएसपी कार्यालय, हैड कांस्टेबल आमिर खान थान कवाई, रामवीर सिंह चालक, कांस्टेबल विक्रम सिंह, सुगनाबाई, कृष्णा आदि शामिल रहे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज