• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • राजस्थान रोडवेज को घाटे से उबारने के लिए शुरू हुआ CNG बसों का पायलट प्रोजेक्ट

राजस्थान रोडवेज को घाटे से उबारने के लिए शुरू हुआ CNG बसों का पायलट प्रोजेक्ट

राजस्थान रोडवेज बस को सीएनजी से चलाने का ट्रायल बारां से शुरू

राजस्थान रोडवेज बस को सीएनजी से चलाने का ट्रायल बारां से शुरू

Pilot Project : राजस्थान में सीएनजी बस की ट्रायल शुरू. यह बस किशनगंज, भंवरगढ़, परानिया होते हुए नाहरगढ़ का 53 किलोमीटर का सफर तय करेगी. सीएनजी से बस चलाने का पायलेट प्रोजेक्ट सफल रहा तो इसे प्रदेशभर में लागू किया जाएगा.

  • Share this:
बारां. लगातार घाटे में चल रही राजस्थान रोडवेज को घाटे से उबारने के लिए अब सीएनजी तकनीक का सहारा मिला है. राजस्थान में आज से सीएनजी की पहली बस सेवा बारां में शुरू हुई. बारां रोडवेज डिपो से नाहरगढ़ कस्बे के लिए पहली सीएनजी बस को ट्रायल के रूप में शुरू किया गया है. सब कुछ सही रहा तो पूरे राजस्थान में जल्द ही सीएनजी बसें सड़कों पर फर्राटे मारते दिखेंगी.

रोडवेज को लगा लाभ का टीका
बस पर लाभ का लगता यह टीका राजस्थान रोडवेज को घाटे से उबार सकता है. दरअसल राजस्थान में ट्रायल के तौर पर सीएनजी बस सेवा की शुरुआत की गई है. यह शुरुआत सर्वप्रथम बारां जिले से की गई जहां आज रोडवेज डिपो से विधिवत पूजन अर्चन कर बस को नाहरगढ़ कस्बे के लिए रवाना किया गया. यह बस किशनगंज, भंवरगढ़, परानिया होते हुए नाहरगढ़ का 53 किलोमीटर का सफर तय करेगी.

बारां से नाहरगढ़ तक दो फेरे करेगी
पहली बस को रोडवेज प्रबंधक सुनीता जैन ने विधिवत पूजन अर्चन कर गंतव्य के लिए रवाना किया. इस दौरान रोडवेज के कई अधिकारी और कर्मचारी भी मौजूद रहे. यह बस प्रतिदिन नाहरगढ़ के 2 फेरे करेगी. जिसकी कुल यात्रा 212 किलोमीटर रहेगी. पहले राउंड में बस सुबह 11 बजे बारां से रवाना होकर नाहरगढ़ पहुंचेगी. वापसी में यह बस 1 बजे नाहरगढ़ से रवाना होगी. दूसरे राउंड में साढ़े तीन बजे बारां से रवाना होगी और वापसी में यही बस नाहरगढ़ से शाम साढ़े 5 बजे रवाना होगी.

घाटे से उबारने के लिए सीएनजी बस
बारां में आसानी से सीएनजी की उपलब्धता के चलते इस बस की शुरुआत बारां से की गई है. सीएनजी के डीजल से 40 प्रतिशत तक सस्ती होने के चलते घाटे से उबारने और पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए रोडवेज ने डीजल बस को सीएनजी में बदल इसका ट्रायल शुरू किया है. यह बस सफल होती है, तो रोडवेज कई पुरानी बसों को सीएनजी में बदलेगा. इन बसों को प्रदेशभर में संचालित किया जाएगा. रोडवेज की ओर से कंडम व खस्ताहाल बसों को रिनोवेट कर उसमें सीएनजी किट लगाकर संचालित किया जाएगा.

प्रोजेक्ट सफल रहा तो और बसें चलाएंगे
रोडवेज बारां डिपो मुख्य प्रबंधक सुनीता जैन ने बताया कि पायलट प्रोजेक्ट के तहत निगम की ओर से सीएनजी से बसों का संचालन को लेकर एनालिसिस किया जाएगा. इसके लिए बारां से नाहरगढ़ रूट पर सीएनजी से बस का संचालन शुरू किया गया है. निगम अधिकारियों की ओर से इस रूट पर होने वाली आय को लेकर एनालिसिस किया जाएगा. सफल होने पर निगम की ओर से इसे पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा. रोडवेज बेड़े में शामिल अन्य बसों का संचालन सीएनजी से किया जाएगा.

प्रोजेक्ट के लिए निशुल्क मिली सीएनजी किट
आज शुरू हुई बस रोडवेज की पुरानी बीएस थर्ड बस है जिसको रिनोवेट कर सीएनजी किट लगाया है. यह एक बार सीएनजी भरने के बाद 250 किमी तक चलेगी. एक बस को सीएनजी करने में 3 लाख 50 हजार रुपए की लागत आई है. पायलट प्रोजेक्ट में इस बस में निजी कंपनी द्वारा निशुल्क सीएनजी किट लगाया गया है. अगर ट्रायल में सबकुछ सही रहा तो विश्वस्तरीय यह तकनीक घाटे में चल रही रोड़वेज को उबार सकती है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज