अपना शहर चुनें

States

बारां में मौसमी बीमारियों का कहर, अस्पतालों में बढ़ी मरीजों की भीड़

फोटो-(ईटीवी)
फोटो-(ईटीवी)

बारां जिले के ग्रामीण क्षेत्रों के साथ शहर में बुखार का प्रकोप कम होने का नाम नहीं ले रहा है और बढ़ता ही जा रहा है. लोग डेंगू, मलेरिया की गिरफ्त में आ रहे हैं.

  • Share this:
बारां जिले के ग्रामीण क्षेत्रों के साथ शहर में बुखार का प्रकोप कम होने का नाम नहीं ले रहा है और बढ़ता ही जा रहा है. लोग डेंगू, मलेरिया की गिरफ्त में आ रहे हैं.

स्थिति यह है कि शहर की हर कॉलोनी में 100 से 150 मरीजों में डेंगू, मलेरिया के लक्षण के नजर आ रहे हैं. सरकारी से लेकर प्राइवेट जांच केंद्रों पर मरीजों की भीड़ उमड़ रही है और जिला चिकित्सालय में सैकड़ों मरीज भर्ती होकर जमीन पर लेटकर उपचार करा रहें हैं. शहर में डेंगू, मलेरिया की रोकथाम के इंतजाम नाकाफी साबित हो रहे हैं.

जिला अस्पताल, निजी अस्पतालों सहित चिकित्सकों के आवास पर मरीजों की भीड़ उमड़ रही है. हर जगह चिकित्सकीय सलाह के लिए एक से डेढ़ घंटे का इंतजार करना पड़ रहा है. सैकड़ों लोग अभी भी कोटा के सरकारी और निजी चिकित्सलयों में भर्ती हो कर उपचार करा रहें हैं. अभी तक जिलें भर में एक माह में एक दर्जन लोगों की मौत डेंगू और बुखार के कारण चुकी है.



एक मृतक महिला के पति ने बताया कि तेल फैक्टरी क्षेत्र में हर घर में कोई ना कोई बुखार से पीड़ित है. चारों ओर खाली प्लांटों में पानी भरा हुआ है, जिससे डेंगू और मलेरिया का प्रकोप चल रहा है. डेंगू के कारण मेरी पत्नी की मौत हो गई, लेकिन प्रशासन ने कॉलोनियों में जमा पानी के निकास की कोई व्यवस्था नहीं की है.
जिला कलेक्टर डा. एसपी सिंह का कहना है कि मौसमी बीमारियों का प्रकोप चल रहा है. वहीं टीमें गठित कर लोगों के घर-घर उपचार किया जा रहा है. रोकथाम के लिए चिकित्सा विभाग को एंटीलार्वा गतिविधियां करने के निर्देश दिए गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज