अपना शहर चुनें

States

मंत्री हरीश चौधरी के बयान के बाद बाड़मेर की राजनीति में फिर सियासी बवंडर की संभावना

राजस्व मंत्री हरीश चौधरी। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
राजस्व मंत्री हरीश चौधरी। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

विधानसभा चुनाव के बाद एक बार फिर लोकसभा चुनाव में बाड़मेर की राजनीति गरमाने जा रही है. विधानसभा चुनाव में प्रदेश की राजनीति में हॉट केक बने बाड़मेर में फिर सियासी भूचाल की संभावनाएं पैदा हो रही है.

  • Share this:
विधानसभा चुनाव के बाद एक बार फिर लोकसभा चुनाव में बाड़मेर की राजनीति गरमाने जा रही है. विधानसभा चुनाव में प्रदेश की राजनीति में हॉट केक बने बाड़मेर में फिर सियासी भूचाल की संभावनाएं पैदा हो रही है. लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं प्रदेश के राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने हाल ही में बयान दिया है कि अगर पार्टी कहेगी तो वे चुनाव लड़ने के लिए तैयार है. उनके इस बयान के बाद बाड़मेर के सियासी गलियारों में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है.

प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री हरीश चौधरी बाड़मेर के बायतू से विधायक हैं. वे पूर्व में बाड़मेर-जैसलमेर लोकसभा क्षेत्र से सांसद रह चुके हैं. बीजेपी के संस्थापक सदस्य रहे बाड़मेर-जैसलमेर के पूर्व सांसद एवं विदेश मंत्री जसवंत सिंह के पुत्र मानवेन्द्र सिंह ने विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी की बेरुखी से खफा होकर पार्टी का दामन छोड़ कांग्रेस का हाथ थाम लिया था. उस समय से राजनीतिक गलियारों में उनके कांग्रेस से बाड़मेर-जैसलमेर संसदीय क्षेत्र से लोकसभा चुनाव में उतरने की चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया था. मानवेन्द्र सिंह गत लोकसभा चुनावों में बीजेपी द्वारा अपने पिता जसवंत सिंह का टिकट काट दिए जाने से खफा थे. खुद मानवेन्द्र सिंह बाड़मेर-जैसलमेर लोकसभा क्षेत्र से सांसद रह चुके हैं और उन्होंने रिकॉर्ड वोटों से चुनाव जीता था. इस बार वे कांग्रेस से लोकसभा की टिकट के प्रबल दावेदार हैं.

यह भी पढ़ें:  प्रदेश में लड़खड़ा रही है कांग्रेस की देन महात्मा गांधी नरेगा योजना, रोजगार का आंकड़ा गिरा  



मनरेगा योजना बनी सरकार की प्राथमिकता, 24 दिन में बढ़ गए करीब 9 लाख श्रमिक
कांग्रेस में घमासान होना तय है
ऐसे में हाल ही में विधानसभा चुनाव लड़कर विधायक और बाद में मंत्री बनने वाले हरीश चौधरी के इस बयान से यह तो साफ हो गया कि लोकसभा की सीट के लिए कांग्रेस में घमासान होना तय है. सियासी गलियारों में अब इस बात की चर्चा भी जोरों पर है कि हरीश चौधरी का बयान इस बात तो साफ करता है कि उनके मन में अभी भी केंद्रीय राजनीति में जाने की इच्छा चल रही है, लेकिन सरकार में मंत्री बन गए हैं लिहाजा वे कुछ भी खुलकर बोल नहीं पा रहे हैं.

यह भी पढ़ें: झुंझुनूं लोकसभा सीट: यहां पांच दशक से 'नहर' पर चल रही है राजनीति  

सीकर लोकसभा सीट : देश में जाट राजनीति का रुख मोड़ने का श्रेय है इस क्षेत्र को

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज