Barmer: BJP और कांग्रेस में वंशवाद की राजनीति चरम पर, एक ही परिवार 4-4 सदस्य चुनाव मैदान में डटे

यहां पूर्व विधायक और प्रधानों के परिवारों के चार-चार सदस्य चुनाव मैदान में डटे हैं.
यहां पूर्व विधायक और प्रधानों के परिवारों के चार-चार सदस्य चुनाव मैदान में डटे हैं.

पश्चिमी राजस्थान में भारत-पाकिस्तान के बॉर्डर पर स्थित बाड़मेर जिले (Barmer District) में दोनों प्रमख पार्टियों बीजेपी और कांग्रेस (BJP and Congress) में वंशवाद की राजनीति जबर्दस्त तरीके से फलफूल रही है.

  • Share this:
बाड़मेर. थार के धोरों में कांग्रेस और बीजेपी दोनों में वंशवाद की राजनीति (Dynastic politics) जबर्दस्त तरीके से फलफूल रही है. यहां बुजुर्ग हो रहे नेता अपने परिवार के सदस्यों को राजनीति में आगे लाने में लगे हुए हैं. वहीं खुद बुजुर्ग नेता भी आखिरी चुनाव की बात कहकर चुनाव मैदान (Election ground) में उतरे हुये हैं. जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्यों के लिए प्रत्याशियों का चुनाव प्रचार चरम पर है. जिले की 21 पंचायत समितियों की 389 सीटों के लिए चुनाव हो रहे हैं. इसमें कई रोचक किस्से सामने आए हैं. प्रधान की दौड़ में कई दिग्गज परिवार शामिल हैं. प्रधानी उनके अपने ही परिवार रहे इसके लिये एक ही परिवार (Same family) से एक नहीं बल्कि 3 से 4 लोग चुनाव लड़ रहे हैं.

इन चुनावों में कहीं पति और पत्नी दोनों तो कहीं मां-बेटा चुनाव मैदान में उतरे हुये हैं. वहीं कहीं भाई-बहन और चाचा- भतीजी चुनावी मैदान में है. हर कोई जीत का बाजीगर बनने के लिए दिन-रात मेहनत कर रहा है. इतना ही नही प्रधान और जिला प्रमुख के कई दावेदारों ने खुद के अलावा अपने कई लोगों को भी चुनावी मैदान में उतार रखा है ताकि वक्त आने पर प्रधान और जिला प्रमुख के चुनाव के समय उनके चेहते लोग उनके पक्ष में माहौल बना सके.

Udaipur: अंतरराष्ट्रीय महिला ड्रग स्मगलर को मुंबई DRI की टीम ने किया गिरफ्तार



तगाराम चौधरी के तीन सदस्य चुनाव लड़ रहे हैं
पूर्व विधायक रहे तगाराम चौधरी के परिवार से 3 लोग बायतु पंचायत समिति क्षेत्र से चुनाव मैदान में है. तगाराम का पुत्र चेनाराम कड़वासरा वार्ड संख्या 10 से, चेनाराम की पत्नी सिगरती देवी वार्ड संख्या 6 से और चेनाराम की पुत्री हिमांशी वार्ड 11 से चुनावी मैदान में हैं. तीनों ही बीजेपी से चुनाव लड़ रहे हैं. बायतु के पूर्व प्रधान सिमरथाराम बेनीवाल बायतु पंचायत समिति के वार्ड संख्या 10 से चुनाव लड़ रहे हैं. उनकी पत्नी चंपा देवी को वार्ड संख्या 11 से चुनाव लड़ाया जा रहा है. दोनों ही कांग्रेसी उम्मीदवार हैं.

दोनों मंत्रियों को करनी पड़ेगी कड़ी मशक्कत
चेनाराम कड़वासरा बताते है कि पार्टी ने उनके परिवार से तीन सदस्यों को टिकट दिया है. उन्होंने दावा किया है कि बायतु से बीजेपी का प्रधान बनाया जाएगा. राजस्व मंत्री हरीश चौधरी व केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी भी इसी विधानसभा क्षेत्र से आते हैं. ऐसे में कांग्रेस और बीजेपी के दोनों मंत्रियों को भी कड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी.

पूर्व प्रधान के परिवार के चार सदस्य हैं चुनाव मैदान में
नवसृजित आडेल पंचायत समिति से प्रधान की दावेदारी कर रहे पूर्व प्रधान सोहनलाल भांभू के परिवार से चार लोग चुनावी मैदान में हैं. इनमें से सोहनलाल के पुत्र रमेश भांभू व जसराज भांभू, पुत्रवधू सुमन चौधरी और भांजा नानगाराम सियाग कांग्रेस से चुनावी मैदान में हैं. आडेल पंचायत समिति में बीजेपी की ओर से वार्ड संख्या 7 से नगाराम बेनीवाल चुनाव लड़ रहे हैं. नगाराम की पत्नी लहरी देवी वार्ड संख्या 5 से और पुत्रवधू सुनीता चौधरी वार्ड संख्या 6 से चुनाव लड़ रही है. इनका बेटा महिपाल भी चुनाव लड़ रहा है. ये चारों बीजेपी से चुनावी मैदान में हैं. ऐसे में यहां प्रधान की दावेदारी के लिए भाजपा-कांग्रेस के बीच रोचक मुकाबला है.

आडेल में बुआ-भतीजी आमने सामने
आडेल पंचायत समिति के वार्ड संख्या 9 से लाधू देवी कांग्रेस से चुनाव लड़ रही हैं. वहीं इसी वार्ड से उनकी भतीजी भंवरी देवी बीजेपी से चुनावी मैदान में है. नवसृजित पायला कलां पंचायत समिति के वार्ड संख्या 4 से नवली देवी बीजेपी से और इसी वार्ड से उनकी भतीजी रेखा देवी कांग्रेस से चुनाव लड़ रही हैं.

पूर्व विधायक और उनकी पुत्रवधू लड़ रहे हैं चुनाव
सात बार विधायक रहे अब्दुल हादी के बेटे गफूर अहमद और पुत्रवधू शम्मा बानो भी पंचायतीराज चुनाव के मैदान में हैं. गफूर अहमद जिला परिषद सदस्य का चुनाव लड़ रहे हैं तो शम्मा बानो धनाऊ पंचायत समिति का चुनाव लड़ रही है. गफूर अहमद राज्य मंत्री और उप जिला प्रमुख रह चुके हैं तो वहीं शमा बानो चौहटन की प्रधान भी रह चुकी हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज