अपना शहर चुनें

States

बाड़मेर: पुलिस हिरासत में युवक की मौत, सरकार ने मानी मांगें, 80 घंटे बाद टूटा गतिरोध

बाड़मेर विधायक मेवाराम जैन ने मृतक के भाई को सरकार की ओर से नगर परिषद में जॉइनिंग लेटर और 25 लाख की आर्थिक सहायता प्रदान की.
बाड़मेर विधायक मेवाराम जैन ने मृतक के भाई को सरकार की ओर से नगर परिषद में जॉइनिंग लेटर और 25 लाख की आर्थिक सहायता प्रदान की.

बाड़मेर (Barmer) जिला पुलिस की अवैध हिरासत में युवक की मौत (Death in police custody) बाद से उपजा गतिरोध (Deadlock) आखिरकार 80 घंटे बाद खत्म हो गया है. परिजनों और उसके समाज की मांगें मान लिए जाने के बाद सोमवार को युवक जीतू खटीक का अंतिम संस्कार (Funeral) कर दिया गया.

  • Share this:
बाड़मेर. जिला पुलिस की अवैध हिरासत में युवक की मौत (Death in police custody) बाद से उपजा गतिरोध (Deadlock) आखिरकार 80 घंटे बाद खत्म हो गया है. परिजनों और उसके समाज की मांगें मान लिए जाने के बाद सोमवार को युवक जीतू खटीक का अंतिम संस्कार (Funeral) कर दिया गया. मृतक को उसके 3 वर्षीय पुत्र ने मुखाग्नि दी. युवक के अंतिम संस्कार में स्थानीय विधायक समेत कांग्रेस (Congress) के कई नेता शामिल हुए.

नगर परिषद में नौकरी और 25 लाख की आर्थिक सहायता प्रदान की
गत गुरुवार को पुलिस हिरासत में जीतू खटीक की मौत के बाद से इस मामले लगातार गतिरोध बना हुआ था. मृतक के परिजन और समाज के लोग अपनी मांगों को लेकर अड़े हुए थे. समझाइश के लिए कई दौर की वार्ताएं विफल होने के बाद आखिरकार स्थानीय विधायक मेवाराम जैन के प्रयासों से रविवार शाम को गतिरोध टूटा. सरकार ने परिजनों की मांगों को मान लिया. बाड़मेर विधायक मेवाराम जैन ने मृतक के भाई को सरकार की ओर से नगर परिषद में जॉइनिंग लेटर और 25 लाख की आर्थिक सहायता प्रदान की. इसके साथ विधायक ने मृतक के परिवार को भूखंड देने की घोषणा करते हुए उन्हें मामले की जांच सीआईडी सीबी से कराने का भी भरोसा दिलाया.

3 वर्षीय मासूम पुत्र ने मुखाग्नि दी
इस पूरी प्रक्रिया के बाद परिजन शव लेने के लिए राजी हुए. गतिरोध खत्म होने के बाद जीतू के शव का पोस्टमार्टम करवाकर उसे परिजनों को सौंप दिया गया. सोमवार को युवक का अंतिम संस्कार कर दिया गया. जीतू खटीक को उसके 3 वर्षीय मासूम पुत्र ने मुखाग्नि दी. अंतिम संस्कार में समाज के लोगों के साथ ही विधायक मेवाराम जैन और कई अन्य कांग्रेस नेता शामिल हुए. इस मामले में तुरंत कार्रवाई के लिए बाड़मेर विधायक मेवाराम जैन ने आईजी से मुलाकात भी की है.



गत गुरुवार को हुई थी युवक की मौत
उल्लेखनीय है कि हमीरपुरा निवासी जीतू खटीक को ग्रामीण थाना पुलिस गत बुधवार को चोरी के मामले में पूछताछ करने के लिए थाने लाई थी. गुरुवार को सुबह जीतू की पुलिस हिरासत में अचानक तबीयत खराब हो गई. इस पर पुलिस उसे आनन-फानन में इलाज के लिए जिला अस्पताल ले गई. वहां इलाज के दौरान जीतू की मौत हो गई. इससे पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया था. उसके बाद से जीतू के परिजन और समाज के लोग एक करोड़ रुपए मुआवजा, परिवार के किसी एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी, रहने के लिए भूखंड, आरोपी पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी और मामले की जांच सीबीआई से करवाने की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए थे.

 

 

एसपी समेत दो अधिकारी हो चुके हैं एपीओ
इस प्रकरण में राज्य सरकार अब तक बाड़मेर पुलिस अधीक्षक शरद चौधरी और बाड़मेर पुलिस उप अधीक्षक विजय सिंह चारण को एपीओ कर चुकी है. वहीं बाड़मेर ग्रामीण थानाप्रभारी दीप सिंह भाटी को सस्पेंड करने के साथ ही पूरे थानास्टाफ को लाइन हाजिर कर दिया गया है.

 

बाड़मेर: पुलिस कप्तान की कुर्सी को लगा 'ग्रहण' ! 19 माह में 6 बदले, 3 हुए APO

 

बाड़मेर: पुलिस हिरासत में फिर 1 युवक की मौत, SHO सस्पेंड, पूरा थाना लाइन हाजिर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज