अपना शहर चुनें

States

बाड़मेर: बारूद लगाकर महज 4 सेकंड में ध्वस्त की पानी की ये टंकी, देखें वीडियो

करीब 6 लाख 80 हजार लीटर पानी की क्षमता वाली यह टंकी काफी पुरानी होने के कारण पूरी तरह से जर्जर हो चुकी थी. इसके कभी भी गिर जाने का अंदेशा था.
करीब 6 लाख 80 हजार लीटर पानी की क्षमता वाली यह टंकी काफी पुरानी होने के कारण पूरी तरह से जर्जर हो चुकी थी. इसके कभी भी गिर जाने का अंदेशा था.

बाड़मेर शहर (Barmer city) के सबसे बड़े जर्जर हो चुके पानी के उच्च जलाशय (टंकी) को सोमवार को बारुद (Gunpowder) लगाकर ध्वस्त (Demolished) कर दिया गया. महज 4 सैकेंड में यह टंकी ध्वस्त होकर जमीन पर आ गिरी. इस दौरान पूरे इलाके की विद्युत आपूर्ति को बंद (Light cut) कर दिया गया.

  • Share this:
बाड़मेर. शहर के सबसे बड़े जर्जर हो चुके पानी के उच्च जलाशय (टंकी) को सोमवार को बारुद (Gunpowder) लगाकर ध्वस्त (Demolished) कर दिया गया. महज 4 सैकेंड में यह टंकी ध्वस्त होकर जमीन पर आ गिरी. इस दौरान पूरे इलाके की विद्युत आपूर्ति को बंद (Light cut) कर दिया गया. आस-पास के घरों के लोगों को भी एहतियात (Precaution) के तौर पर बाहर निकाल लिया गया. टंकी के ध्वस्त करने के नजारे को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग वहां एकत्र हो गए.

कभी भी गिर जाने का अंदेशा था
बाड़मेर शहर के महावीर नगर में पुरानी टंकी बनी हुई थी. करीब 6 लाख 80 हजार लीटर पानी की क्षमता वाली यह टंकी काफी पुरानी होने के कारण पूरी तरह से जर्जर हो चुकी थी. उसके कभी भी गिर जाने का अंदेशा था. मोहल्लेवासी भी लंबे समय से इस टंकी को ध्वस्त करने मांग कर रहे थे. बीते दिनों आई बरसात में इस टंकी का कुछ हिस्सा क्षतिग्रस्त भी हो गया था. उस वक्त जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के नगर खण्ड के अधिशासी अभियंता हजारीराम बालवा ने जलाशय को जर्जर घोषित करने के लिए इसकी तथ्यात्मक रिपोर्ट बनाकर अधीक्षण अभियंता को भेजी थी. उसके बाद मामला उच्चाधिकारियों के पास पहुंचा.

99.27 लाख रुपए से बनेगी नई टंकी
इस पर अतिरिक्त मुख्य अभियंता जोधपुर दिनेश कुमार मित्तल ने उच्च जलाशय को सुरक्षित रूप से ध्वस्त करने और 99.27 लाख रुपए की वित्तीय स्वीकृति प्रदान कर नई टंकी के निर्माण के आदेश जारी किए. उसके बाद सोमवार को टंकी गिराने की कार्रवाई को अमली जामा पहनाया गया. विभागीय अधिकारियों और कर्मचारियों ने पूरी सतर्कता के साथ बारुद लगवाकर टंकी को ध्वस्त करवा दिया. महज 4 सैकेंड में टंकी जमीन आ गिरी.





प्रभावित इलाकों को दूसरे जलाशयों से जोड़ा
नगर खण्ड के सहायक अभियंता जयराम ने बताया कि इस जलाशय से जुड़े इलाकों को दूसरे जलाशयों से जोड़ दिया गया है, जिससे जलापूर्ति बाधित नहीं हुई है. इस जलाशय को सोमवार को ध्वस्त करने की कार्रवाई को अंजाम दिया गया. अब यहां नए उच्च जलाशय का निर्माण करवाया जाएगा.

 

पंचायत चुनाव: अधिसूचना जारी, कल भरे जाएंगे पर्चे, इन बातों का रखें खास ख्याल

जोधपुर: मासूम बच्चों की मौत पर हाईकोर्ट चिंतित, राज्य सरकार से मांगी रिपोर्ट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज