होम /न्यूज /राजस्थान /Rajasthan: बाड़मेर की कोमल अब दिल्ली की सड़कों पर संभालेंगी स्टेयरिंग, पढ़े संघर्ष की कहानी

Rajasthan: बाड़मेर की कोमल अब दिल्ली की सड़कों पर संभालेंगी स्टेयरिंग, पढ़े संघर्ष की कहानी

Barmer News: कोमल के ताऊ राणाराम चौधरी का कहना है कि बच्चों को कुछ कर गुजरने की शिक्षा उन्होंने हमेशा दी . कोमल अपने फौ ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- मनमोहन सेजू

बाड़मेर. रेत के दरिया में रहने वाली एक बेटी ने देश की राजधानी दिल्ली में पुरुष वर्ग के दबदबे वाले पेशे को चुनकर ना केवल हर किसी को हैरान कर दिया है, बल्कि खुद का नाम स्वर्ण अक्षरों में दर्ज करवा दिया है. बाड़मेर की कोमल दिल्ली में अब स्टेयरिंग संभालती नजर आएगी. हाल ही में कोमल का दिल्ली ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन में चालक पद पर चयन हुआ है.

शिक्षित बेटियां भी अब उड़ान भर रही है. ऐसा ही एक उदाहरण है सरहदी बाड़मेर की कोमल चौधरी. बाड़मेर की बेटी दिल्ली की सड़कों पर सरपट बस दौड़ाती नजर आएंगी. बाड़मेर के छोटे से गांव रामसर के सेतराऊ की रहने वाली कोमल चौधरी ने दिल्ली में डीटीसी की बस चालक बनी है. कोमल की इस सफलता के पीछे उनके फौजी पिता और दिव्यांग ताऊ की बड़ी मेहनत है. इस मुकाम को हासिल करने के बाद पहली बार बाड़मेर आने पर उसका घरवालों ने बड़ी गर्मजोशी के साथ स्वागत किया.

दिल्ली परिवहन विभाग में बनीं हिस्सा
बता दें कि बाड़मेर जिला मुख्यालय पर अपनी पढ़ाई पूरी करने के दौरान कोमल ने वाहन चलाना सीखा और उसके पिता ने उसका लाइसेंस भी बना दिया. उसके बाद कोमल ने दिल्ली जाकर इसकी ट्रेनिंग ली और दिल्ली सरकार द्वारा निकली भर्ती की परीक्षा को पास कर वह दिल्ली परिवहन विभाग की बस चलाने वाले पहले महिला बैच का हिस्सा बन गई है. कोमल का कहना है कि उसके दिव्यांग ताऊ की साइकिल के पीछे लिखा हुआ था कि “संघर्ष ही जीवन है”. दिल्ली में बस चालक बनने के सवाल पर कोमल का कहना है कि जिस काम में जोखिम और चुनौती हो उसे करने में जो अनुभूति होती है उसका कोई मुकाबला नहीं है.

2017 में कोमल ने गाड़ी चलाना सीखा
कोमल के ताऊ राणाराम चौधरी का कहना है कि बच्चों को कुछ कर गुजरने की शिक्षा उन्होंने हमेशा दी . कोमल अपने फौजी पिता की तरह बहादुर है और यही वजह है कि उसने अपने लिए यह जॉब चुनी. कोमल की शुरुआती शिक्षा ग्रामीण इलाके में हुई उसके बाद बाड़मेर में उच्च माध्यमिक परीक्षा पास की. साल 2017 में कोमल ने गाड़ी चलाना सीखा और लाइसेंस बनवाया.

कोमल ने बाड़मेर में ड्राइविंग सीखने के साथ- साथ दिल्ली में भी ड्राइविंग का अनुभव रखती है.

Tags: Barmer news, Delhi news, Delhi transport department, Rajasthan news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें