लाइव टीवी

कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं विधायक हेमाराम चौधरी बोले- चुनाव लड़कर भूल कर दी

Premdan Detha | News18 Rajasthan
Updated: February 3, 2019, 5:42 PM IST

पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं गुड़ामालानी विधायक हेमाराम चौधरी ने कहा कि वे अब चुनाव नहीं लड़ेंगे. चौधरी ने कहा कि उन्होंने यह चुनाव लड़कर ही भूल कर दी.

  • Share this:
विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत के बाद गहलोत मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिलने से सुर्खियों में आए पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं गुड़ामालानी विधायक हेमाराम चौधरी ने कहा कि वे अब चुनाव नहीं लड़ेंगे. चौधरी ने कहा कि उन्होंने यह चुनाव लड़कर ही भूल कर दी.

हेमाराम चौधरी इन दिनों बाडमेर जिला मुख्यालय के दौरे पर हैं. मीडिया से बातचीत में चौधरी ने कहा कि वे पिछले दो चुनाव पार्टी के कहने पर लड़ रहे हैं. बकौल चौधरी उनकी चुनाव लड़ने की इच्छा कभी नहीं थी. लेकिन पार्टी का आदेश होने के चलते यह चुनाव लड़ा. यही भूल कर दी. लोकसभा चुनाव के लिए चल नाम पर हेमाराम चौधरी का कहना था कि वे अब कोई चुनाव नहीं लड़ेंगे. अभी जो चुनाव लड़ लिया वो ही बहुत है.

यह भी पढ़ें: किसानों के कर्ज माफी की फरवरी के दूसरे सप्ताह में हो सकती है शुरुआत!

उल्लेखनीय है कि जब मंत्रिमंडल की घोषणा हुई थी उसमें हेमाराम चौधरी का नाम नहीं होने की वजह से उनके समर्थक नाराज हो गए थे. उनके समर्थकों ने अशोक गहलोत और सचिन पायलट से मुलाकात कर चौधरी को मंत्री बनाने की मांग भी की थी. वहीं हेमाराम चौधरी का कहना है कि मंत्री बनाना पार्टी हाईकमान का काम है. सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट से खफा होने के सवाल पर चौधरी ने कहा वे किसी से खफा नहीं है. मंत्री बनाना या ना बनाना मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार होता है.

वोट बैंक की राजनीति : सहकारी बैंकों की सेहत पर भारी पड़ रही है 'कर्ज माफी' 

डिप्टी सीएम पायलट ने कहा, बागियों को कांग्रेस में वापस लेने का कोई प्रस्ताव नहीं  

दो दफा कैबिनेट मंत्री रहे हैं चौधरी
Loading...

हेमाराम चौधरी इससे पहले अशोक गहलोत सरकार में दो दफा कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं. वहीं एक दफा नेता प्रतिपक्ष भी रहे हैं. हेमाराम चौधरी छठी बार विधायक बने हैं. इस बार विधानसभा में जब सभी सदस्य शपथ ले रहे थे तो पहले दिन ही हेमाराम चौधरी देरी से पहुंचे थे. उस दौरान भी यह अफवाहें उड़ी थी कि चौधरी इस्तीफा दे सकते हैं.

बीजेपी सरकार के अंतिम 6 महीने में लिए गए फैसलों की समीक्षा, फंस सकते हैं बड़े अधिकारी

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बाड़मेर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 3, 2019, 4:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...