बाड़मेर: कोरोना काल में बड़ी सौगात, 48 लोगों को मिली सरकारी नौकरी

बाड़मेर में लोगों को मिला सरकारी नौकरी का तोहफा.

बाड़मेर में लोगों को मिला सरकारी नौकरी का तोहफा.

राजस्थान के बाड़मेर (Barmer) में जिला अस्पताल में लगे  48 लोगों को कोरोना संकट के बीच सरकारी नौकरी का तोहफा मिला है.

  • Share this:

बाड़मेर. देश भर में कोविड के विपरीत हालातों के बीच लोगों की जान जाने और अस्पतालों में जबदस्त भीड़भाड़ और मरीजों के हाहाकार के बीच सरहदी बाड़मेर से कोरोना काल (COVID 19) में समर्पण से सेवा करने वालों को सबसे बड़ी सौगात मिली है. कोविड के विपरीत हालातों में चौबीसों घण्टे अस्पताल की सफाई व्यवस्था में लगे 48 लोगों को सरकारी नौकरी का तोहफा दिया गया है. बाड़मेर जिला अस्पताल में 48 सफाई कर्मचारी कोविड के विपरीत हालातो में जी जान से जुटा हुआ थे. चारो तरफ फैले संक्रमण और लोगोे की मौतो के बीच पीपीई किट पहन कर इन सफाई कर्मचारियों से समर्पण से अपने काम को अंजाम दिया.

अब शुक्रवार को कार्यस्थल पर नगर परिषद् आयुक्त दलीप पुनिया और नगर परिषद सभापति दिलीप माली ने इनके स्थायीकरण के प्रमाणपत्र सौंपे. इन लोगों में से एक अन्नाराम के लिए उस वक़्त खुशी का ठिकाना नहीं रहा जब इसके कार्यस्थल पर आकर इसके स्थायीकरण का प्रमाण पत्र इसे सौंपा गया. अन्नाराम के मुताबिक जिला अस्पताल में शुरू  में बहुत डर लगता था लेकिन फिर जी जान से अपने काम मे जुट गए थे. अब जब स्थायीकरण के आदेश मिले है तो बहुत ही खुशी हो रही है.

48 कर्मचारियों को मिली सौगात

कोविड के विपरीत हालातों में जहां चिकित्सकों और चिकित्सा विभाग के अधिकारियों और स्वास्थ्यकर्मियों ने कोरोना की जंग बखूबी लड़ी है. वही इन सफाई कर्मचारियों के योगदान को भी कम नहीं आंका जा सकता. ऐसे में जिला मुख्यालय पर एक साथ 48 लोगों को उनकी सेवा पर सौगात मिली है. बाड़मेर नगर परिषद सभापति दिलीप माली के मुताबिक कोरोना के विपरीत हालातों में लोगों ने जी जान से अपने काम को बखूबी किया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज