अपना शहर चुनें

States

टिड्डी के हमले से 35 बीघे में खड़ी फसल हुई चौपट, किसान निम्बाराम की सदमे से हुई मौत

टिड्डी ने किसान निम्बाराम के पूरे खेत चट कर लिया.
टिड्डी ने किसान निम्बाराम के पूरे खेत चट कर लिया.

निम्बाराम (Nimbaram) के खेत में टिड्डी जब पहुंची तो उसने उसे भागने पूरा जतन किया, लेकिन उसे इसमें सफलता नहीं मिली और वह सदमा लगने से बेहोश (Faint) होकर गिर गया और उसकी मौके पर ही मौत हो गई.

  • Share this:
बाड़मेर. सीमा पार पाकिस्तान से आ रही टिड्डी (Grasshopper) को लेकर पश्चिमी राजस्थान के इलाकों में कहर पिछले आठ से नौ महीने से जारी है. गुड़ामालानी के सगरानियो की बेरी में टिड्डी ने किसान निम्बाराम (Nimbaram) के पूरे खेत चट कर दिया. इतना भयंकर सदमा लगा है कि उसकी मौत (Farmer Died)  हो गई. ​निम्बाराम को इस बात की चिंता थी कि उसने फसल के लिए जो 3 तीन लाख का लोन लिया था, वह कैसे बैंक को वापिस करेगा. निम्बाराम के खेत में टिड्डी जब पहुंची तो उसने उसे भागने पूरा जतन किया, लेकिन उसे इसमें सफलता नहीं मिली और वह सदमा लगने से बेहोश होकर गिर गया और उसकी मौके पर ही मौत हो गई. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि टिड्डी को लेकर कब तक गहलोत ओर मोदी सरकार किसानों की मौत होते हुए देखते रहेंगे. किसान की मौत पर कांग्रेस ओर भाजपा दोनों खामोश हैं.

इलाज के दौरान निम्बाराम की हुई मौत

दो दिन पहले टिड्डी ने गुड़ामालानी क्षेत्र के भीमगढ़ पीपराली गांव में हमला कर दिया, जिससे किसान निम्बाराम की 35 बीघे जमीन पर बोई गई फसल बर्बाद हो गई. किसान के परिवार ने टिड्डियों को उड़ाने के लिए अपने घर के बर्तनों और डब्बों को बजा-बजाकर भगाने की कोशिश की. इस काम में सफलता नहीं मिलता देख किसान निम्बाराम पुत्र दामाराम को सदमा लग गया और उसकी तबीयत बिगड़ गई. उसे हॉस्पिटल में दाखिल कराया गया. इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.



इससे पहले बालोतरा क्षेत्र में किसान भागाराम की हुई थी मौत
गौरतलब है कि पाकिस्तान से लगातार टिड्डियों का हमला जारी है, जिसके चलते रबी की बुवाई कर चुके किसानों की मुश्किलें बढ़ गई हैं. कुछ दिन पहले बालोतरा क्षेत्र किटनोद गांव के टिड्डी हमले के सदमे से भगाराम किसान की मौत हो चुकी है. अब भी किसानों की मौत का सिलसिला भी जारी हो गया है लेकिन केंद्र और राज्य की सरकारें टिड्डियो को नियंत्रित करने में विफल रही हैं.

यह भी पढ़ें: सोहराब खान हत्याकांड के आरोपी शूटर को पकड़ने में दो साल बाद मिली कामयाबी

हरियाणा के गुड़गांव कैनाल से राजस्थान बहकर पहुंचे दो दर्जन से ज्यादा मृत गौवंश
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज