Home /News /rajasthan /

बाड़मेर बॉर्डर से LIVE : सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाने को तैयार हैं ग्रामीण

बाड़मेर बॉर्डर से LIVE : सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाने को तैयार हैं ग्रामीण

गडरा गांव में मौजूद ग्रामीण। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

गडरा गांव में मौजूद ग्रामीण। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

भारत-पाकिस्तान के बीच चल रहे तनाव के बावजूद भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बसे गांवों के हालात बिल्कुल सामान्य नजर आ रहे हैं. सेना के शौर्य के दम पर ग्रामीण उत्साह से लबरेज हैं.

भारत-पाकिस्तान के बीच चल रहे तनाव के बावजूद भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बसे गांवों के हालात बिल्कुल सामान्य नजर आ रहे हैं. सेना के शौर्य के दम पर ग्रामीण उत्साह से लबरेज हैं. वे अपने रोजमर्रा के कामकाज में व्यस्त हैं. युद्ध की बात करने पर वे सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाकर दुश्मन के दांत खट्टे करने के लिए तैयार बैठे हैं.

भारत-पाक बॉर्डर पर जैसलमेर में पकड़ा संदिग्ध व्यक्ति, हवाई सेवाएं हुईं बहाल

पाकिस्तान से महज दो किलोमीटर दूरी पर स्थित बाड़मेर जिले के गडरा गांव के लोग जरूरत पड़ने पर दुश्मनों से दो-दो हाथ करने को भी तैयार हैं. हालांकि भारत-पाक के मध्य तनाव को देखते हुए प्रशासन ने इस क्षेत्र में हाई अलर्ट जारी कर रखा है, लेकिन उसके बावजूद ग्रामीणों के चेहरों पर कई कोई खौफ नहीं है. इस गांव में कुछ ग्रामीण ऐसे भी हैं जो 1971 कि लड़ाई में हालात का सामना कर चुके हैं.

नाचना में पकड़े गए संदिग्ध युवक को जांच एजेंसियों को सौंपा, अजमेर भी पकड़ा संदिग्ध

सीमावर्ती क्षेत्र बीकानेर में पाक की नापाक हरकत, ग्रामीणों के पास आ रहे संदिग्ध कॉल

1971 की लड़ाई में हालात का सामना कर चुके हैं यहां के लोग
ग्रामीण कमालदीन 1971 की लड़ाई में हालात का सामना कर चुके हैं. पुरानी यादों को दोहराते हुए कमालदीन कहते हैं कि उस समय अचानक लड़ाई शुरू हो गई थी. तब कुछ भी समझ में नहीं आया था. अचानक सेना ने पूरा गांव खाली करवा दिया. लेकिन आज हालात बदल चुके हैं. यहां अब सब लोगों को पता है कि युद्ध के हालात क्या करना है. वे इसको समझते हैं. वो कहते हैं जरूरत पड़ने पर सेना के साथ मिलकर दुश्मनों का खात्मा करेंगे.

बीकानेर के बज्जू इलाके में दिखा ड्रोन! जैसलमेर में वॉर म्यूजियम किया गया बंद

श्रीगंगानगर में सैनिकों का जोश बढ़ाने बॉर्डर पर हिंदुमलकोट पहुंचे लोग, मुंह मीठा कराया

1971 में रेगिस्तानी इलाकों में रहना पड़ा था
गांव में छोटी सी दुकान पर बैठे प्रतापाराम व गुलेचराम ने भी पुरानी यादों को साझा किया. उन्होंने कहा कि 1971 की लड़ाई में गांव को छोड़कर रेगिस्तानी इलाकों में रहना पड़ा था. करीब सात दिन तक रेतीले धोरों में रहने के बाद वापस गांव आए थे. लेकन आज हालात बदले हुए हैं. ग्रामीण सेना के साथ मिलकर दुश्मनों को जवाब देने के लिए तैयार बैठे हैं.

SURGICAL STRIKE 2.0: राजस्थान में फौजी के घर पैदा हुआ 'मिराज सिंह'

SURGICAL STRIKE 2.0: सरकारी अफसरों और कर्मचारियों की छुटि्टयां रद्द

जैसलमेर में बॉर्डर से 90 किलोमीटर तक के दायरे में मौजूद गांवों में अलर्ट

सीमा पर तनाव बढ़ने के बाद जैसलमेर एयरपोर्ट पर सभी उड़ानें रद्द, सुरक्षा बढ़ाई

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स 

Tags: Air Strike, Balakot, Barmer news, CRPF, Indian army, Jodhpur News, Marty, Pulwama, Pulwama attack, Rajasthan news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर