PAK से आई इस आफत ने सरकार की बढ़ाई चिंता, बॉर्डर पर अफसरों की तैनाती

अशोक गहलोत सरकार ने टिड्डी से निपटने के लिए कृषि विभाग की 11 टीमों का गठन किया है. यह टीमें बाड़मेर में बॉर्डर के गांवों में निगरानी कर रही हैं.

News18 Rajasthan
Updated: July 19, 2019, 5:18 PM IST
PAK से आई इस आफत ने सरकार की बढ़ाई चिंता, बॉर्डर पर अफसरों की तैनाती
जैसलमेर में करोड़ों की संख्या में टिड्डी के हमले की आशंका है. (फाइल फोटो)
News18 Rajasthan
Updated: July 19, 2019, 5:18 PM IST
पाकिस्तान से आई ट‍िड्डी ने राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार की चिंता बढ़ा दी है. सरकार ने इन्हें रोकने के लिए कृषि विभाग के अधिकारियों की पूरी फौज को बाड़मेर जिले में तैनात कर दिया है. भारत-पाक सीमा से जुड़े 28 जिलों में टिट्डी ने अपना कहर मचाया हुआ है. हालांकि, प्रशासन ने दावा किया है कि हालात पूरी तरह काबू में हैं.

पश्चिमी राजस्थान के जिलों में करोड़ों की संख्या में टिड्डी के हमले की आशंका है. यहां किसानों और ग्रामीणों के लिए टिड्डी के बाद फाके के पनपने की भी चिंता बढ़ गई है. ऐसे में गहलोत सरकार ने इनसे निपटने के लिए कृषि विभाग की 11 टीमों का गठन किया है. यह टीमें बाड़मेर में बॉर्डर के गांवों में निगरानी कर रही हैं. इनमें कृषि विभाग से जुड़े कई दर्जन बड़े अफसर भी शामिल हैं, जो सीमा पर इन सब हालातों पर नजर बनाए हुए हैं.

कृषि विभाग के अधिकारी ले रहे हैं जायजा
कृषि विभाग के उप निदेशक राधेश्याम नरवाल ने बताया कि जैसलमेर जिले की तीन तहसीलों के 303 स्थानों पर कुल 14,509 हैक्टेयर में टिड्टी को नियंत्रण किया गया है. इनमें जैसलमेर तहसील में 8243 हैक्टेयर, पोककरण में 4498 और फतेहगढ़ तहसील में 1768 हैक्टेयर में टिड्डी को नियंत्रण किया गया है. उन्होंने बताया कि कृषि विभाग के अधिकारी फील्ड में जाकर नियंत्रण कार्यों का जायजा ले रहे हैं.

बॉर्डर पर कृषि विभाग के अधिकारी निगरानी कर रहे हैं.


विभाग का दावा, स्थिति नियंत्रण में
वहीं, बाड़मेर के अतिरिक्त जिला कलेक्टर राकेश शर्मा ने कहा कि कृषि विभाग के अधिकारी यह दावा कर रहे हैं कि टिड्डी नियंत्रण में हैं. जिले के 28 गांवों में टिड्डी ने दस्तक दी थी, जिन्हें चिन्हित कर नियंत्रण में किया जा रहा है. यहां पिछले दो दिनों से बड़ी संख्या में जमीन से फाका निकलने का मामला भी सामने आया है. जिसे टिड्डी नियंत्रण दल कीटनाशक दवाई छिड़कर कंट्रोल कर रहे हैं. शर्मा ने बताया कि ग्रामीणों से जहां-जहां सूचना मिल रही है, वहां विभाग की ओर से नियंत्रण का कार्य किया जा रहा है.
Loading...

ये भी पढ़ें- करोड़ों की संपत्ति का मालिक बना ये बंदर, शादी में मिलेगा आलीशान महल
First published: July 19, 2019, 5:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...