अपना शहर चुनें

States

Barmer News: तीन महीने से पाक जेल में कैद राजस्थान का युवक, परिवार ने PM मोदी से मांगी मदद

राजस्थान का युवक पाक जेल में कैद.
राजस्थान का युवक पाक जेल में कैद.

राजस्थान के बाड़मेर (Barmer ) जिले का रहने वाला एक युवक अनजाने में बॉर्डर कर पाकिस्तान (Pakistan) पहुंच गया. अब युवक तीन महीनों से पाक जेल में कैद है. परिवार अब रिहाई के लिए पीएम मोदी से मदद की गुहार लगा रहा है.

  • Share this:
बाड़मेर. भारत-पाकिस्तान सीमा (India-Pakistan border) पर बसे बाड़मेर (Barmer) के एक गांव का किशोर अनजाने में सरहद पार पाकिस्तान चले गय. फिर पाक रेंजरों ने उसे गिरफ्तार कर जेल में डाल  दिया. युवक तीन महीनों से पाक जेल में बंद है. अब किशोर का परिवार हाल बेहाल है. अब किशोर के घरवालों ने उसकी रिहाई के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से गुहार लगाई है. दरअसल, 4 नवंबर की रात बाड़मेर के सज्जन का पार के कुम्हारों के टिब्बा का गेमराराम अनजाने में सरहद पार पाकिस्तान चला गया. अपने घर से महज कुछ कदमोे की दूरी पर बसे दूसरे मुल्क पाकिस्तान की जमीन पर रखे गए उसके कदम उसके घर वालो के लिए बेबसी, दुख और लाचारगी लिख गए.

गेमराराम के मां-बाप और परिवार का रो-रो कर बुरा हाल है. घर मे वीरानी और दिल को चीर लेने वाली सिसकियों ने अपना डेरा जमा लिया है. हर अनजान शख्स के घर में प्रवेश करने पर घरवाले टकटकी लगाए उसकी तरफ देखते नजर आते हैं. गेमराराम के मां-बाप बताते हैं कि अनजाने में उनका बेटा सरहद पार पाकिस्तान चला गया. वहां क्या-क्या यातनाएं दी जा रही होंगी यह सोचकर ही डर लगता है. अब गेमराराम के परिजन देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके बेटे की वतन वापसी की गुहार लगा रहे हैं.

ये भी पढ़ें: Agra News: पत्नी ने किया दहेज प्रताड़ना का केस, तो पति ने इंटरनेट पर डाली अश्लील तस्वीरें



पुलिस ने सीमा सुरक्षा बल को लिखा पत्र
इस मामले को लेकर बाड़मेर में गुमशुदगी दर्ज होने के बाद पुलिस ने सीमा सुरक्षा बल को पत्र लिखकर पूरे घटनाक्रम से अवगत करवाया है. लेकिन घटना को तकरीबन तीन महीने बीत जाने के बावजूद अभी तक कुछ भी होता नजर नही आ रहा है. लापता गेमराराम के परिजनों का रो-रो कर बुरे हाल है. वहीं मामले में स्थानीय जन प्रतिनिधियों ने राज्य सरकार तक मामले को पहुंचाकर इसे गृह एवं विदेश मंत्रालय को मामले पर संज्ञान लेने की अपील की है. स्थानीय जन प्रतिनिधियों के मुताबिक, केंद्र सरकार के विदेश मंत्रालय को इस मामले में सवेंदशीलता से कदम बढ़ाने की सख्त जरूरत है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज