Home /News /rajasthan /

Barmer Child Rare Disease: बच्चे के हाथ-पैर की उंगलियां गायब, शरीर से निकलता है खून

Barmer Child Rare Disease: बच्चे के हाथ-पैर की उंगलियां गायब, शरीर से निकलता है खून

बच्चे के इलाज के लिए अब परिवार मदद  की गुहार लगा रहा है.

बच्चे के इलाज के लिए अब परिवार मदद की गुहार लगा रहा है.

Barmer News: राजस्थान के बाड़मेर के सात के मासूम बच्चे (Rare Disease in Barmer Child) को ऐसी खतरनाक बीमार है जिसकी वजह से उसके पूरे शरीर से खून निकलता है. किसी दवा का असर बच्चे पर नहीं होता. परिवार अब बच्चे की इलाज के लिए मदद की गुहार लगा रहा है.

अधिक पढ़ें ...

बाड़मेर. राजस्थान (Rajasthan) के सरहदी बाड़मेर (Barmer) एक सात साल के मासूम बच्चों को ऐसी बीमारी है जिसके बारे में आप सुनकर चौंक जाएंगे. इस मासूम के शरीर के हर हिस्से से खून निकलता है. सात बरस की जिंदगी में इस बच्चे ने एक रात भी सुकून से नहीं गुजरी. हालात इतनी नासाज है कि दोनों हाथ और पैर की उंगलियां भी अब गायब हो गई है. 9 नवंबर 2014 को राजकीय अस्पताल बाड़मेर में वानो की ढाणी,जालीपा आगोर के रहने वाले बालाराम के घर बेटा हुआ. बच्चे के जन्म के तीसरे ही दिन उसे चमड़ी में संक्रमण के चलते जोधपुर रेफर कर दिया गया. 11 नवंबर 2014 से रेफर और अस्पताल बदलने का दुखद दौर अभी तक जारी है. सरकारी अस्पतालों, निजी अस्पतालों से लेकर एम्स और अहमदाबाद के सिविल अस्पताल के डॉक्टरों की दवाइयां ओमप्रकाश ले चुका है, लेकिन उसकी बीमारी पर उसका  इसका कोई असर नहीं हुआ.

अब उसके शरीर का हर हिस्सा घावों से भर चुका है. हाथों और पैरों की उंगलियां गायब हो चुकी है. एक मां के लिए अपने मासूम की नन्ही उंगलियां को थाम कर चलना और उसे गोद में लेना सबसे बड़ा सुख होता है, लेकिन धन्नी देवी के लिए यह सम्भव नहीं है. मासूम ओमा के इलाज के बारे में दादा पुरखाराम बताते है कि जमीन अवाप्ति के बाद मुआवजे में मिले 7-8 लाख रुपए इलाज में खर्च हो चुके हैं और अब कर्जदार हो चुका हूं. पुरखाराम ने अब सरकार, जनप्रतिनिधियों और स्वयंसेवी संस्थाओं से मदद की गुहार लगाई है.

इलाज में खर्च हो गए लाखों

सात साल के इस मासूम की बीमारी इसके जितनी छोटी नहीं है. बीमारी का जितना बड़ा नाम है उससे कहीं ज्यादा इसके इलाज का खर्च. शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर हरीश चौहान बताते है कि इस मासूम को संक्रमण की लाइलाज बीमारी है जिसका इलाज बाड़मेर में संभव नहीं है. यह बीमारी चर्म रोग से जुड़ी हुई है. इसे डिसमोरफिक हैपी डरमो लायसिस बुलोसा कहते है.

ये भी पढ़ें: Rajasthan: शिक्षकों को तबादले के लिए करना होगा इंतजार, मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने बताई वजह 

हर गुजरते दिन के साथ ओमाराम धीरे-धीरे मौत की तरफ कदम बढ़ा रहा है. बेबस परिवार अब बच्चे के इलाज के लिए मदद की गुहार लगा रहा हैं.

Tags: Genetic diseases

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर