Home /News /rajasthan /

OMG: रेगिस्तान में कहां से आया पानी, लोगों का जीना हुआ मुहाल- जानें कारण?

OMG: रेगिस्तान में कहां से आया पानी, लोगों का जीना हुआ मुहाल- जानें कारण?

    राजस्‍थान के रेगिस्‍तान में कभी पेयजल को तरस रहा बाड़मेर अब पानी की उपलब्‍धता से परेशानी में है.

    बीते कुछ सालों में बदले हालात

    रेगिस्तान में आबाद बाड़मेर शहर जो पानी की बूंद-बूंद को तरस रहा था, यहां आश्चर्यजनक तरीके से वाटर लोगिंग की समस्या शुरू हो गई है. करीब आधे शहर में मकानों के अंडरग्राउंड में पानी भरने लगा है और भूजल स्तर इसी तरह बढ़ता रहा तो आने वाले समय में पूरे शहर के यही हाल होंगे. समय रहते इसके बारे में नहीं सोचा गया तो गंभीर परेशानी से शहर के घिरने की आशंका है. कभी पानी के लिए तरसता था, अब वही पानी परेशानी बन गया है.

    भूगर्भ में जमा हो रहा है पानी

    तेल और गैस के बूते देश की आर्थिक राजधानी बन रहा बाड़मेर शहर जमीन पर तेजी से विकास के घोड़े दौड़ा रहा है लेकिन भूगर्भ में निरंतर जमा हो रहा पानी शहर के लिए बड़ी और गंभीर समस्या को न्योता दे रहा है. शहर में बेहिसाब दोहित हो रहा पानी "लॉक" हो रहा है. बेन्टोनाइट, ग्रेवल और आग्नेय चट्टानें पानी को नीचे रिसने नहीं दे रही है,  बाड़मेर शहर के वो क्षेत्र जो ढलान में है वहां पर एक दो फीट पर ही पानी निकलने लगा है.

    नींव खोदना भी मुश्किल

    पुराना शहर जहां मकान में अण्डरग्राउण्ड बनाकर जीवन जीता था अब नए बाड़मेर में अण्डरग्राउण्ड छोड़ नीवें खोदना भी मुश्किल हो गया है. जमीन को खोदते ही पानी आ जाता है और इसे मोटर से बाहर निकालते निकालते लोग थक जाते है. जिन्होंने पहले अण्डरग्राउण्ड बना लिए है वे भी दु:खी होने लगे है और इनको भरवाने का जतन करना पड़ रहा है. नगरपरिषद को इसके लिए योजना बनाकर गंभीरता से कार्य करने की दरकार है लेकिन अभी तक आम आदमी खुद ही जमीन से निकल रहे इस पानी से जूझ रहा है.

    चट्टानों से रुका पानी

    मारवाड़ का जोधपुर शहर का भी एक बड़ा इलाका वाटर लॉगिंग के बुरे परिणाम भुगत रहा है. बाड़मेर शहर करीब पांच किलोमीटर की परिधि में फैला हुआ है. शहर की भूगर्भीय के मुताबिक यहां एक से छह मीटर की गहराई तक सोईल क्ले(मुरडा) और बेन्टोनाइट की पूरी लेयर है. यह लेयर भूगर्भ वैज्ञानिकों के मुताबिक 15 मीटर तक गहरी है. ऐसे में जमीन और मुरड़े के बीच का जो भाग है, उसमें प्रतिदिन जमीन में जाने वाला पानी जमा तो हो जाता है लेकिन नीचे जाने को जगह नहीं मिल रही है.लिहाजा यह पानी जमीन और इस परत के बीच ही जमा होकर "लॉक" हो गया है. इस पानी का स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है.इस समस्या का पहला समाधान इस पानी को जमीन में नीचे उतारना है, लेकिन वॉटर लेयर 15 मीटर तक गहरी होने के कारण यह मुश्किल हो रहा है. दूसरा समाधान इस पानी को पाइप के जरिए बाहर निकालकर इसको ट्रीट तक पहुंचाना है. तीसरा इस पानी का स्तर बढ़े नहीं और इसका दोहन लगातार होता रहे. साथ ही इस समस्या के स्थाई समाधान जोधपुर के तर्ज पर नगर परिषद को अन्य कई योजनाएं लानी होगी. इसके लिए तैयारी के साथ योजना बनाना जरूरी है. जिसको लेकर भूजल विभाग ने जिला कलेक्टर को इस समस्या समाधान इस पानी को पाइप के जरिए बाहर निकालकर इसको ट्रीट तक पहुंचाने के लिए पत्र भी लिखा है.

    Tags: Rajasthan news, बाड़मेर

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर