Home /News /rajasthan /

Teacher's Day के दिन राजस्थान के शिक्षकों ने क्यों दी सरकार को आत्मदाह की चेतावनी!

Teacher's Day के दिन राजस्थान के शिक्षकों ने क्यों दी सरकार को आत्मदाह की चेतावनी!

राजस्थान में शिक्षकों ने निकाला मौन जुलूस.

राजस्थान में शिक्षकों ने निकाला मौन जुलूस.

Barmer Teachers Protest: राजस्थान के बाड़मेर में टीचर्स डे के दिन शिक्षकों ने प्रदर्शन किया. शिक्षकों ने सेटअप परिवर्तन नहीं रोकने पर आमरण अनशन कर आत्मदाह की चेतावनी भी दे दी है.

बाड़मेर. राजस्थान (Rajasthan) के बाड़मेर (Barmer) में टीचर्स डे (Teachers Day 2021) के मौके पर शिक्षक सड़कों पर उतर आए. राजस्थान शिक्षक संघ राष्ट्रीय ने शिक्षकों के लिए 6 डी सेटअप परिवर्तन पर रोक लगाने की मांग को लेकर शिक्षक दिवस के दिन प्रदर्शन किया. बाड़मेर (Teachers Protest in Barmer) जिला मुख्यालय पर गांधी चौक से रवाना होकर शिक्षकों ने मौन जुलूस निकाला और जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर अपनी मांग रखी. शिक्षक संघ से जुड़े नूतन पूरी गोस्वामी ने बताया कि पिछले ढाई सालों में शिक्षा विभाग द्वारा श्रेष्ठ कार्य किए जा रहे हैं. इससे शिक्षकों में सरकार और शिक्षा विभाग प्रति सकारात्मक छवि बनी हुई है.
लेकिन हाल ही में तृतीय श्रेणी शिक्षकों के लिए हो रहे सेटअप परिवर्तन और 6 डी प्रक्रिया गलत है. शिक्षकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और शिक्षा मंत्री को अभिमत पत्र प्रेषित कर सकारात्मक कार्रवाई किए जाने की मांग की है. ज्ञापन के मुताबिक हाल ही में नवीन सेवा नियम 2021 की घोषणा के साथ नियम 6 डी में बदलाव के तहत पंचायत राज के 3 साल के अनुभव की शर्त हटाकर इसे शून्य वर्ष करने की घोषणा भी की गई. ऐसे में अनुभव की शर्त शून्य करने के नवीन नियम का उपयोग कर स्वेच्छिक आवेदन लेते हुए शिक्षा विभाग में सेटअप परिवर्तन व 6 डी के नियम में शिथिलता प्रदान की जा सकती है.
ये भी पढ़ें: Rajasthan Crime News: गर्म सरिए और चिमटे से दागा, बेटे की चाहत में गई मां की जान 
शिक्षकों ने दी आत्मदाह की चेतावनी
शिक्षकों का कहना है कि काउंसिलिंग से सेटअप बदलने में उपस्थित शिक्षकों को स्वेच्छिक जाना बताते हुए योगकाल की 10 दिन पीएल एवं यात्रा व दैनिक भत्ता भी नहीं दिया. ऐसे में जब उपस्थित शिक्षकों का स्वेच्छिक सेटअप परिवर्तित माना तो फिर अनुपस्थित रहने वालों के लिए स्वेच्छिक नहीं मानकर उन्हें नियम 6 डी से छूट देना न्याय के प्राकृत सिद्धांत के अनुरूप था. शिक्षकों को दूरस्थ स्थान पर जबरन पदस्थापित किया. शिक्षकों ने शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के खिलाफ जमकर रोष प्रकट करते हुए सेटअप परिवर्तन नहीं रोकने पर आमरण अनशन कर आत्मदाह करने और डोटासरा के विधानसभा क्षेत्र लक्ष्मण गढ़ में विधानसभा चुनावों में दो-दो हाथ करने की भी चेतावनी दी है.

Tags: CM Ashok Gehlot, Education Minister, Education Policy, Govind Singh Dotasara

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर