होम /न्यूज /राजस्थान /

खुलासा: पाक नेटवर्क का SIM इस्तेमाल रहे तस्कर, बॉर्डर से ड्रग्स और फेक करेंसी हो रही सप्लाई

खुलासा: पाक नेटवर्क का SIM इस्तेमाल रहे तस्कर, बॉर्डर से ड्रग्स और फेक करेंसी हो रही सप्लाई

सुशांत सिंह राजपूत केस में फिल्म इंडस्ट्री में बड़े पैमाने पर ड्रग्स सेवन का खुलासा हुआ है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सुशांत सिंह राजपूत केस में फिल्म इंडस्ट्री में बड़े पैमाने पर ड्रग्स सेवन का खुलासा हुआ है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पाकिस्तान (Pakistan) में बैठक तस्कर भारत के लोगों को झांसे में लाकर नशे का कारोबार (Drugs Racket) कर रहे हैं. इसके लिए पाक के मोबाइल नेटवर्क का इस्तेमाल किया जा रहा है. बार्डर से जाली मुद्रा (Fake Currency) के साथ मादक पदार्थ भी मंगवाए जा रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...
बाड़मेर. आतंकी (Terrorist) और अवांछित गतिविधियों के संचालन के लिए तस्कर ही नहीं पाकिस्तानी मोबाइल कंपनियों (Pakistani Mobile Company SIM)  का नेटवर्क भी सीमा पार कर रहा है. सीमावर्ती बाड़मेर के तस्कर पड़ोसी देश की मोबाइल सिम काम में ले रहे हैं, जिससे वे बिना डर व परेशानी के आसानी से सीमा पार तस्करों से सम्पर्क साध जाली मुद्रा (Fake Currency) ही नहीं हथियार और मादक पदार्थ तक मंगवा रहे हैं. पिछले दिनों जाली मुद्रा के साथ पकड़ में आए स्थानीय तस्कर से पुलिस पूछताछ में खुलासा किया है कि पाकिस्तान सिम के जरिए ही भारत मेx खूब तस्करी की जा रही है. पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा. पाक भारत में नशे की लत को बढ़ावा दे रहा है. यह कार्य पाकिस्तान में बैठा तस्कर रोशन खा भारत्तीय लोगों से सम्पर्क साधकर उन्हें भी तस्करी में शामिल कर रहा है.

भारत से कोई भी व्यक्ति यदि सीमा पार किसी से बातचीत करता है तो सुरक्षा एजेंसियां भांप लेती है. यह भी पता लग जाता है कि किस मोबाइल नम्बर से सीमा पार फोन किया गया है, लेकिन सीमा पार की मोबाइल सिम से अगर स्थानीय तस्कर भारत से पाक में बात करते हैं तो इसे ट्रैस करने में काफी कठिनाई होती है. तस्कर इसी का फायदा उठाकर अवांछित गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं. गत दिनों नकली भारतीय मुद्रा और हेरोइन के साथ पुलिस के हत्थे चढ़ने वाले शातिर तस्कर नवातला गांव निवासी सावन ने तीन सौ मीटर अंदर से मोबाइल पर सीमा पार तस्कर से बात कर 12 लाख रूपए की जाली मुद्रा व 4 किलो हेरोइन मंगवाई थी.

देश की सुरक्षा से जुड़े मसला

वहीं, पुलिस अधीक्षक आनंद शर्मा के मुताबिक पाकिस्तानी तस्कर भारतीय लोगों से सम्पर्क साधकर उन्हें छोटे लालच के लिए तस्करी में शामिल कर लेते है. शर्मा ने अपील की है कि छोटे लालच के लिए बॉर्डर पार लोगों से सम्पर्क नहीं रखें. यह देश की सुरक्षा से जुड़ा हुआ मसला है. अगर ऐसी कोई संदिग्ध गतिविधि हो तो तुरंत पुलिस को सूचित करें. दरअसल, ड्रग्स माफिया भारत में पैर पसारने के लिए अक्सर भारतीय नागरिकों को पैसों का लालच दे रहा है. इसके जाल में कई भारतीय लोग फंस भी चुके हैं. पाकिस्तान में बैठे माफिया से बात करने के लिए अक्सर पाकिस्तानी सिम का इस्तेमाल किया जाता है.

ये भी पढ़ें: ये हैं MP के 10 बेस्ट इंवेस्टीगेशन ऑफिसर, केंद्र ने दिया एक्सीलेंस इन इंवेस्टीगेशन मेडल

गौरतलब है कि पुलिस ने तस्कर सावन खान और उसके अन्य साथियों से अभी तक पाकिस्तानी सिम बरामद नहीं की गई है. पाकिस्तान से तस्करी में पाकिस्तानी सिम बड़ा हथियार बनकर उभरी है. अब तक बॉर्डर पार से 12 लाख के नकली नोट और 4 किलो हेरोइन भारत लाई गई जिसमें पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 6.55 लाख नकली भारतीय मुद्रा व 2.745 किलो हेरोइन जब्त कर  10 आरोपियो को गिरफ्तार किया है.

Tags: Chief Minister Ashok Gehlot, Currency, India pakistan, India Vs Pakistan, Jaipur news, Opium smuggling, Rajasthan government, Rajasthan latest news, Rajasthan police, Smuggling

अगली ख़बर