लाइव टीवी

भरतपुर: सरसों के खेत में बनाए जा रहे थे अवैध हथियार, पुलिस पहुंची तो फरार हुए आरोपी
Bharatpur News in Hindi

Shiv Kumar Vashishth | News18 Rajasthan
Updated: February 7, 2020, 7:39 PM IST
भरतपुर: सरसों के खेत में बनाए जा रहे थे अवैध हथियार, पुलिस पहुंची तो फरार हुए आरोपी
पुलिस ने मौके से कई निर्मित और अर्धनिर्मित हथियारों समेत इन्हें बनाने की 10 मशीनें, 8 बैरल, रेती, फनर और ड्रिल बरामद किए हैं.

भरतपुर (Bharatpur) जिला पुलिस ने शुक्रवार को बड़ी कार्रवाई (Big action) को अंजाम देते हुए कामां (Kaman) थाना इलाके के दांतका गांव में चल रही हथियार (Weapons) बनाने की अवैध फैक्ट्री का खुलासा किया है. पुलिस ने वहां भारी मात्रा में निर्मित और अर्ध निर्मित हथियार बरामद (Arms recovered) किए हैं.

  • Share this:
भरतपुर. जिला पुलिस ने शुक्रवार को बड़ी कार्रवाई (Big action) को अंजाम देते हुए कामां (Kaman) थाना इलाके के दांतका गांव में चल रही हथियार (Weapons) बनाने की अवैध फैक्ट्री का खुलासा किया है. पुलिस ने वहां भारी मात्रा में निर्मित और अर्ध निर्मित हथियार बरामद (Arms recovered) किए हैं. पुलिस की कार्रवाई को देख हथियार बनाने के आरोपी मौके से फरार हो गए. बताया जा रहा है कि पुलिस (Police) ने आरोपियों का पीछा किया, लेकिन वो गच्चा देकर भागने में सफल रहे.

दांतका गांव के जंगल में संचालित की जा रही थी फैक्ट्री
पुलिस उपाधीक्षक देवेंद्र राजावत ने बताया कि दांतका गांव के जंगल में अवैध हथियार बनाने की फैक्ट्री संचालित होने की सूचना मिली थी. इस पर डीग और कामां सहित अन्य थाना पुलिस के साथ दांतका गांव के जंगल में दबिश दी गई. वहां सरसों के खेत में अवैध रूप से हथियार बनाने की फैक्ट्री संचालित की जा रही थी. दबिश के दौरान बदमाशों ने पुलिस को दूर से देख लिया तो वे वहां भाग खड़े हुए. पुलिस ने मौके से कई निर्मित और अर्धनिर्मित हथियारों समेत इन्हें बनाने की 10 मशीनें, 8 बैरल, रेती, फनर और ड्रिल बरामद किए हैं. पुलिस ने आरोपियों को चिन्हित कर लिया है. उनकी तलाश की जा रही है.

पिछले दिनों भी एक फैक्ट्री पकड़ी गई थी

पिछले दिनों भी पुलिस ने कामां और पहाड़ी क्षेत्र में अवैध हथियार बनाने की फैक्ट्री का खुलासा किया था. उस दौरान भी पुलिस केवल हथियार ही बरामद कर पाई थी. आरोपी मौके से भाग गए. इस मामले में डीआईजी लक्ष्मण गौड़ ने इसे पुलिस की निष्क्रियता मानते हुए तत्कालीन कोतवाल नेकीराम को निलंबित कर दिया था.

अवैध देसी और विदेशी हथियारों की भरमार है
उल्लेखनीय है कि भरतपुर और इससे सटे धौलपुर जिले में अवैध देसी और विदेशी हथियारों की भरमार है. यही वजह कि यहां छोट-मोटे झगड़े भी कोई भी कभी भी हथियार निकालने और फायरिंग करने से नहीं हिचकिचाता है. इन दोनों ही जिलों में आए दिन फायरिंग की घटनाएं होती रहती हैं. 

जयपुर: उपभोक्ताओं को बिजली का झटका, 10-11 % बढ़ाई दरें, 1 फरवरी से हुईं लागू



जोधपुर: शादी के लिए लड़के की न्यूनतम आयु 21 और लड़की के लिए 18 वर्ष क्यों ?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भरतपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 7, 2020, 7:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर