होम /न्यूज /राजस्थान /भरतपुर: कोरोना के बाद ठप पड़े ‘घोड़ी-बग्घी’ कारोबार ने पकड़ी रफ्तार, शादियों के लिए एडवांस बुकिंग शुरू

भरतपुर: कोरोना के बाद ठप पड़े ‘घोड़ी-बग्घी’ कारोबार ने पकड़ी रफ्तार, शादियों के लिए एडवांस बुकिंग शुरू

कोरोना में प्रभावित हुआ घोड़ा बग्गी कारोबार शादियों की शुरुआत के साथ पटरी पर लौट रहा है. वही शादियों की एडवांस बुकिंग ह ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- ललितेश कुशवाहा

भरतपुर. देश में शादियों का सीजन शुरू हो चुका है.सर्वाधिक शादी जनवरी और दिसंबर माह में है. जहां एक तरफ कोरोना काल में शादियों को लेकर कुछ लगाई गई पाबंदी से शादियों से जुड़े ‘घोड़ा-बग्गी’ कारोबार भी चौपट हो गया था. इस काम से जुड़े कारोबारियों के सामने दो वक्त की रोटी के ही लाले पड़ने के साथ साथ बेजुवान घोड़ा-घोड़ी भी भुखमरी के कगार पर पहुंच गए थे. लेकिन कोरोना में प्रभावित हुआ घोड़ा बग्गी कारोबार शादियों की शुरुआत के साथ पटरी पर लौट रहा है. शादियों की एडवांस बुकिंग होने के कारण घोड़ा बग्गी व्यापारियों के चेहरों पर खुशी नजर आ रही है. इस सीजन में लाखों रुपए के कारोबार होने का अनुमान है.

अच्छा व्यापार होने का अनुमान
घोड़ा व्यापारी चांद मुहम्मद ने बताया कि कोरोना के बाद वापिस शादियों में घोड़ा बग्गी की बुकिंग शुरू हो चुकी है.वही आगामी होने बाली शादियों की बुकिंग भी एडवांस आ चुकी है. एक शादी की बुकिंग 1100 रुपए मिलने के साथ साथ बग्गी के 6 हजार रूपए मिलते है. कभी-कभी एक दिन में तीन से चार बुकिंग भी आ जाती है. देवउठनी एकादशी से लेकर अप्रैल जून तक यह कारोबार चलता है. इसी बीच एक घोड़ा व्यापारी खर्चा काटकर लाखों रुपए कमा लेता है.

घोड़ा व्यापारियो पर महंगाई की मार
घोड़ा मालिक चांद मुहम्मद ने बताया कि घोड़ा महंगा जानवर है. जिसके खान-पान से लेकर रखरखाव तक प्रतिदिन ₹200 खर्च होते हैं. वहीं शादियों की सजावट के लिए महंगा सामान होता है और इसकी कटिंग का खर्चा भी 200 से ₹250 है. शादियों की बुकिंग में घोड़ा बग्गी को मजदूर ले जाता है जिसे करीब 250 ₹300 दिए जाते हैं. लेकिन एक दिन में अधिक बुकिंग से खर्चा निकल जाता है. वहीं जिले में करीब 400 घोड़े हैं.

Tags: Bharatpur News, Rajasthan news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें