होम /न्यूज /राजस्थान /Bharatpur: ये हैं नूर मोहम्मद उर्फ प्रहलाद, देवी मंदिर से चार पीढ़ियों का है इनके परिवार का नाता

Bharatpur: ये हैं नूर मोहम्मद उर्फ प्रहलाद, देवी मंदिर से चार पीढ़ियों का है इनके परिवार का नाता

लोहगढ़ किले के बाहर स्थित ऐतिहासिक मां मनसा देवी मंदिर में सांप्रदायिक सौहार्द्र की मिसाल नज़र आती है. सुबह चार से पांच ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट – ललितेश कुशवाहा

भरतपुर. लोहगढ़ किले के बाहर स्थित ऐतिहासिक मां मनसा देवी ;डं डंदें क्मअपद्ध मंदिर में एक मुस्लिम परिवार चार पीढ़ियों से नगाड़ा बजाकर सांप्रदायिक सौहार्द्र की मिसाल पेश कर रहा है. नूर मोहम्मद ;छववत डनींउउंक द्ध बताते हैं ‘मां के दरबार में दादा व पिता नगाड़ा बजाते थे. अब मेरे ऊपर जिम्मेदारी है. मेरे साथ मेरा बेटा नगाड़ा बजाता है. सबसे बड़ी बात यह है कि चार पीढ़ियों द्वारा आज तक कभी नागा किए बिना नगाड़ा बजा रहे हैं.’ सुबह चार से पांच बजे के बीच मंदिर पहुंचने वाले इस परिवार का गुज़ारा नगाड़ा बजाते समय भक्तों से मिलने वाले दान से ही चलता है.

नूर मोहम्मद ने बताया कि मां मनसा देवी के दरबार में उनके खानदान की चार पीढ़ियां सेवा कर चुकी हैं. राजा महाराजा के समय से ही उनके दादा फैली खान मां मनसा देवी के दरबार में नगाड़ा बजाते थे. उनके निधन के बाद पिता नीनू खान व इनके निधन के बाद नूर मोहम्मद व इनका बेटा मां के दरबार में प्रतिदिन नगाड़ा बजाकर हाजिरी लगा रहे हैं. मनसा देवी में नूर मोहम्मद की आस्था है. वह नगाड़े से मां के दरबार में होने बाली मंगला आरती संपन्न करवाते हैं.

नूर मोहम्मद का दूसरा नाम प्रहलाद!

नूर ने बताया ‘मेरा जन्म होलिका दहन के दिन हुआ था. उनके घर के पास एक देवी का मंदिर है, जाहं उनके पिता आते-जाते रहते थे. उस समय मंदिर में पूजा अर्चना करने वाले पुजारी को खबर दी तो उस वक्त ही मन्दिर के पुजारी ने उनका नाम प्रहलाद रख दिया. जब से लेकर की आज तक सभी लोग उन्हें प्रहलाद के नाम से जानते हैं. आज नूर मोहम्मद की उम्र 70 साल है और उनका कहना है कि उनकी आने वाली पीढ़ियां भी मां मनसा देवी के दरबार में सेवा करती रहेंगी.

150 साल पुरानी है मां मनसा देवी की मूर्ति

बताया जाता है कि पंडित जगन्नाथ शर्मा लोहगढ़ किले के बाहर एक पेड़ के नीचे भजन ध्यान कर रहे थे. उसी दौरान एक मूर्ति मिट्टी में दबी हुई दिखाई दी थी, उसे बाहर निकलवा कर देखा गया तो मां मनसा देवी की प्राचीन मूर्ति निकली. एक चबूतरे पर पूजा अर्चना के साथ स्थापित की. तभी से इस मंदिर में भक्तों का सैलाब उमड़ता है, विशेष तौर पर नवरात्रि के दिनों में. मां मनसा देवी के सामने लगभग 50 साल से अखंड ज्योति भी जल रही है.

Tags: Bharatpur News, Navratri festival

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें