भरतपुर लोकसभा सीट: BJP को रंजीता पर भरोसा, 58.81% वोटिंग के बाद कांग्रेस को है जीत का विश्वास

भरतपुर लोकसभा सीट पर कांग्रेस अपने प्रत्याशी अभिजीत जाटव की जीत का दावा कर रही है. वहीं बीजेपी को अब भी अपने नए चेहरे रंजीता कोली पर पूरा भरोसा है और विधानसभा चुनाव में यहां की आठों सीटों पर शिकस्त की भरपाई लोकसभा चुनाव में जीत से करने की बात कह रही है.

News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 8:16 PM IST
भरतपुर लोकसभा सीट: BJP को रंजीता पर भरोसा, 58.81% वोटिंग के बाद कांग्रेस को है जीत का विश्वास
कांग्रेस प्रत्याशी अभिजीत जाटव(दाएं) और बीजेपी प्रत्याशी रंजीता कोली.
News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 8:16 PM IST
राजस्थान की भरतपुर लोकसभा सीट पर लोकसभा चुनाव 2019 में 58.81% मतदान हुआ है. मतदान से पहले जहां कांग्रेस और बीजेपी के बीच बसपा ने मुकाबला त्रिकोणीय बनाने की काेशिश की वहीं अब कांग्रेस अपने प्रत्याशी अभिजीत जाटव की जीत का दावा कर रही है. वहीं बीजेपी को अब भी अपने नए चेहरे रंजीता कोली पर पूरा भरोसा है और विधानसभा चुनाव में यहां की आठों सीटों पर शिकस्त की भरपाई लोकसभा चुनाव में जीत से करने की बात कह रही है.

भरतपुर सीटी एससी समुदाय के लिए रिजर्व है. यहां 1031947 पुरुष, 902218 महिला और 11 ट्रांसजेंडर मतदाताओं के साथ कुल 1934176 मतदाता है. इस चुनाव में यहां 58.81 प्रतिशत वोटिंग हुई है. कुल 1137503 मतदाओं ने वोट डाले हैं.



ये भी पढ़ें- अलवर में लड़की से फिर गैंगरेप, ग्रामीणों ने एक आरोपी को पीट-पीटकर मार डाला

भरतपुर लोकसभा क्षेत्र में कुल 8 विधानसभा सीटें शामिल हैं. इनमें कठूमर, कामां, नगर, डीग-कुम्हेर, भरतपुर, नदबई, वैर और बयाना. इनमें से बीजेपी के पास एक भी विधानसभा सीट नहीं है. आठ सीटों में से पांच पर कांग्रेस काबिज है. इनमें कामां, डीग-कुम्हेर, बयाना, वैर और अलवर जिले के कठूमर विधानसभा सीटें कांग्रेस के पास हैं. नगर और नदबई पर बहुजन समाज पार्टी काबिज है तो भरतपुर सीट पर कांग्रेस गठबंधन की पार्टी लोकदल का विधायक है.

ये भी पढ़ें- राजस्थान शर्मसार: 5 महीने में 12 गैंगरेप और 20 बलात्कार, 2 मासूमों से रेप के बाद हत्या

इस सीट पर बीजेपी और कांग्रेस दावाें का दाराेमदार क्षेत्र के जाट वोटों पर है. जिस भी पार्टी को जाट वोट करेंगे  उसी की जीत तय बताई जा रही है. जाट के बाद जाटव वोट बैंक यहां नतीजे प्रभावित करने वाला है. जाटव-मुस्लिम मेव, मीणा और खटीक वोटों का रुझान यूं तो कांग्रेस की तरफ रहा है लेकिन मेवात में तो 'पहले मेव भाई, फिर कांग्रेस आई' भी खूब चर्चा में रहा. उधर, ब्राह्मण, राजपूत और वैश्य वोटों के दम पर बीजेपी भी जीत का दावा ठोक रही है.

ये भी पढ़ें- स्कूल टीचर ने किया मामा की बेटी से रेप, पुलिस ने शुरू की तलाश
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार