होम /न्यूज /राजस्थान /भरतपुर में चमत्कार: पुजारी और श्राद्धालुओं का दावा- शिला पर अचानक दिखने लगे पदचिह्न

भरतपुर में चमत्कार: पुजारी और श्राद्धालुओं का दावा- शिला पर अचानक दिखने लगे पदचिह्न

Shri Kunj Bihari Temple: मंदिर के महंत हाकिम दास महाराज ने बताया कि मंदिर का निर्माण करीब 20 वर्ष पहले किया गया था. मंद ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

ये पदचिह्न कामां कस्बे के सूरज बाग कॉलोनी स्थित श्री कुंज बिहारी मंदिर की शिला पर दिखे हैं.
पुजारी ने बताया कि मंदिर के हवन कुंड के चबूतरे के पास है यह शिला, जिस पर दिखे पदचिह्न.

रिपोर्ट : ललितेश कुशवाहा

भरतपुर : कामां क्षेत्र भगवान श्रीकृष्ण की लीलास्थली के रूप में जाना जाता है. मान्यता है कि श्रीकृष्ण ने यहां कई चमत्कार किए हैं. पर ये लीलाएं और चमत्कार द्वापर युग की बात हैं. लेकिन अब आधुनिक युग में भी इस कस्बे में एक अद्भुत नजारा देखने को मिला है. मंदिर की एक शिला पर अचानक दो पदचिह्न नजर आए हैं. इलाके के लोग इसे चमत्कार मान रहे हैं.

बता दें कि ये पदचिह्न कामां कस्बे के सूरज बाग कॉलोनी स्थित श्री कुंज बिहारी मंदिर की शिला पर दिखे हैं. मंदिर के हवन कुंड के चबूतरे के पास है यह शिला. जब एक रोज इलाके के लोगों ने चबूतरे के पास पड़ी शिला पर अचानक पदचिह्न देखे तो उन्होंने इसे भगवान का चमत्कार माल लिया. इस बात की जानकारी पूरे इलाके में तेजी से फैल गई. मौके पर मौजूद लोग पदचिह्न के पास बैठकर भजन-कीर्तन और पूजा-पाठ करने लगे.

20 वर्ष पुराना मंदिर

मंदिर के महंत हाकिम दास महाराज ने बताया कि मंदिर का निर्माण करीब 20 वर्ष पहले किया गया था. मंदिर में प्रतिदिन पूजा-पाठ के साथ भजन-कीर्तन भी किया जाता है. नित्य दिन यहां हवन होता है. इस साल जब नवदुर्गा प्रारंभ हुई, तो एक रोज हवन कुंड के पास की शिला पर एक पदचिह्न नजर आया. बाद में एक दूसरा पदचिह्न भी नजर आ गया. तब भक्तों को इसकी जानकारी दी गई. उन्होंने भी इसे देखा और इसे भगवान का चमत्कार माना. स्थानीय लोगों का कहना है कि नवदुर्गा सप्ताह में मंदिर में मां अपने भक्तों से मिलने आई हैं और उन्होंने अपने पदचिह्न शिला पर छोड़ गईं.

Tags: Bharatpur News, Devotees, Rajasthan news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें