अखबार में लपेटकर नवजात को खेत में फेंका, रोने की आवाज सुनकर राहगीर ने बचा ली जान

भरतपुर में मानवता को शर्मसार करने वाली घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं. आज फिर एक मां-बाप ने अपनी नवजात बच्ची को मरने के लिए लोहटावडा गांव के एक खेत में पटक दिया.

Shiv Kumar Vashishth | News18 Rajasthan
Updated: August 7, 2019, 12:59 PM IST
अखबार में लपेटकर नवजात को खेत में फेंका, रोने की आवाज सुनकर राहगीर ने बचा ली जान
खेत में फिर फेंकी गई नवजात बच्ची का अस्पताल में चल रहा इलाज
Shiv Kumar Vashishth | News18 Rajasthan
Updated: August 7, 2019, 12:59 PM IST
भरतपुर में मानवता को शर्मसार करने वाली घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं. आज फिर एक मां बाप ने अपनी नवजात बच्ची को मरने के लिए लोहटावडा गांव के एक खेत में पटक दिया, लेकिन होनी को कुछ और मंजूर था.  रास्ते से जा रहे एक बाइक चालक ने बच्ची की किलकारियां सुनी तो उसने अपनी बाइक रोकी और आसपास देखा तो अखबार में लिपटी हुई बच्ची रो रही थी.

अखबार में लिपटी मिली नवजात बच्ची

बाइक चालक ने खेत पर पहुंचकर बच्ची को गोद में उठाकर उसे दुलारा और एंबुलेंस को भी सूचना दी, लेकिन काफी देर तक एंबुलेंस मौके पर नहीं पहुंची तो कुछ अन्य लोगों के सहयोग से वह बच्ची को लेकर सीधे बयाना के राजकीय अस्पताल में पहुंच गया, जहां चिकित्सकों को पूरी घटना से अवगत कराकर बच्ची को भर्ती कर दिया. चिकित्सकों ने बच्ची के स्वास्थ्य का पूरी तरह से परीक्षण किया और उसका इलाज शुरू किया.

राजकीय अस्पताल में उपचार बच्ची का इलाज जारी

चिकित्सकों का कहना है कि बच्ची पूरी तरह से स्वस्थ है और उसका उपचार किया जा रहा है. बच्ची के खेत में मिलने की सूचना स्थानीय पुलिस और बाल कल्याण समिति को भी भिजवा दी गई है. फिलहाल बच्ची का बयाना की राजकीय अस्पताल में उपचार जारी है.गौरतलब है कि मंगलवार को कैथवाडा गांव में भी झाड़ियों में नवजात बच्ची ग्रामीणों को मिली थी. उस बच्ची को भी भरतपुर के जनाना अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उसका इलाज जारी है.

खेत में फिर फेंकी गई नवजात बच्ची का अस्पताल में चल रहा इलाज
खेत में फिर फेंकी गई नवजात बच्ची का अस्पताल में चल रहा इलाज


बाल कल्याण समिति की निगरानी में इलाज जारी 
Loading...

अब सवाल यह उठता है कि जहां सरकार बेटियों की परवरिश करने के लिए पूरी तरह से जनजागृति अभियान के तहत लोगों को जागरूक कर रही है और बेटियों के लिए नई नई योजनाएं शुरू कर उन्हें आगे बढ़ाने में पूरी तरह से लगी हुई है. फिलहाल इन दोनों ही बच्चियों का बाल कल्याण समिति की निगरानी में इलाज जारी है.

यह भी पढ़ें- स्कूल में पढ़ने गई बच्ची खौलती हुई सब्जी के भगोने में गिरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भरतपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 7, 2019, 12:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...