होम /न्यूज /राजस्थान /Good News: पर्यावरण संरक्षण के लिए भरतपुर की संस्था की पहल, 2 साल में मुफ्त बांटे 60 हजार कपड़े के थैले

Good News: पर्यावरण संरक्षण के लिए भरतपुर की संस्था की पहल, 2 साल में मुफ्त बांटे 60 हजार कपड़े के थैले

संस्था के पदाधिकारी दिगंबर सिंह ने बताया कि संस्था के द्वारा कर्मचारी लगाकर पुराने कपड़ों से बैग बनाने का काम शुरू किया ...अधिक पढ़ें

    ललितेश कुशवाहा

    भरतपुर. राजस्थान हाईकोर्ट के द्वारा प्लास्टिक बैग को प्रतिबंधित करने के बावजूद भी व्यापारी व आम जन इसका जमकर इस्तेमाल कर रहे हैं. इसके विपरीत पर्यावरण संरक्षण के प्रति भरतपुर की एक संस्था के द्वारा पहल करते हुए कपड़े के थैले बनाकर लोगों को निशुल्क वितरण किया जा रहा है. साथ ही लोगों को प्लास्टिक बैग का उपयोग नहीं करने के लिए जागरूक किया जा रहा है. इसका मुख्य उद्देश्य भरतपुर को पॉलीथिन मुक्त करना है.

    स्वास्थ्य मंदिर संस्था के पदाधिकारी दिगंबर सिंह ने बताया कि कोरोना काल ने देखा कि घरेलू सामग्री में प्रयोग किए जाने वाले प्लास्टिक बैग को लोग घर के बाहर फेंक देते या जला देते थे, इससे एक तरफ जहां पर्यावरण प्रदूषित हुआ. वहीं, इस प्लास्टिक बैग को आवारा जानवर खा रहे थे. कई जगहों पर देखा गया की प्लास्टिक बैग को खाने से आवारा पशुओं की मौत हो गई. यह देख कर मन में विचार आया कि क्यों न संस्था के द्वारा कपड़े के थैले बनवा कर उसे लोगों में नि:शुल्क बांटे जाएं जिससे पर्यावरण प्रदूषण से बचे, और जानवरों के जीवन को भी बचाया जाये.

    60 हजार बैग बनवाकर किए वितरण

    दिगंबर सिंह ने बताया कि संस्था के द्वारा कर्मचारी लगाकर पुराने कपड़ों से बैग बनाने का काम शुरू किया गया. तैयार कपड़े के थैलों को बड़े छोटे व्यापारियों और लोगों को वितरण कर पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक किया गया. दो साल में संस्था के द्वारा नि:शुल्क 60 हजार कपड़े के थैले वितरण किए गए. इसके अलावा, उत्तराखंड के हरिद्वार स्थित संस्थाओं को भी 15 हजार से अधिक कपड़े के बैग नि:शुल्क भेजे गए. उन्होंने बताया कि झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले परिवारों को भी संस्था के द्वारा समय-समय पर कपड़े के बैग नि:शुल्क बांटे जाते हैं.

    प्रतिदिन बनाते है 600 कपड़े के बैग

    संस्था के द्वारा कपड़े के बैग बनाने के लिए अलग से कर्मचारी लगाये गए हैं. उनके द्वारा प्रतिदिन 600 बैग बनाये जाते हैं. तैयार किए गए थैलों को भरतपुर जिले सहित बाहर की संस्थाओं को नि:शुल्क उपलब्ध कराए जाते हैं. इतना ही नहीं, समय-समय पर लोगों और दुकानदारों से प्लास्टिक के बैग नहीं प्रयोग करने की अपील की जाती है.

    Tags: Bharatpur News, Plastic waste, Rajasthan news in hindi

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें