अपना शहर चुनें

States

Bharatpur: गुर्जर के बाद अब जाट समाज में आरक्षण को लेकर सुगबुगाहट, महापंचायत आज

महापंचायत जाट संघर्ष समिति के संयोजक नेमसिंह फौजदार के नेतृत्व में होगी.
महापंचायत जाट संघर्ष समिति के संयोजक नेमसिंह फौजदार के नेतृत्व में होगी.

आरक्षण (Reservation) की मांग को लेकर भरतपुर और धौलपुर जिले का जाट समाज (Jat Samaj) बुधवार को महापंचायत करेगा. इसमें आरक्षण की मांग को लेकर आगामी रणनीति पर चर्चा की जाएगी.

  • Share this:
भरतपुर. राजस्थान में आरक्षण की आग एक बार फिर से सुलग सकती है. गुर्जरों के बाद अब भरतपुर और धौलपुर का जाट समाज (Jat Samaj) आरक्षण की मांग को लेकर सड़कों पर उतर सकता है. इस मसले पर इन दोनों जिलों के जाट समाज की बुधवार को महापंचायत होगी. इसमें आरक्षण की मांग पर चर्चा कर आगामी रणनीति बनाई जाएगी.

आरक्षण की मांग को लेकर जाटों की 18 नवंबर को पथेना गांव में सुबह 11 बजे से महापंचायत होगी. इसमें धौलपुर और भरतपुर के जाटों को आरक्षण देने की मांग की जाएगी. महापंचायत में केंद्र सरकार को इस बाबत चिट्ठी लिखने और पूर्व में आरक्षण आंदोलन के दौरान जाटों पर लगे मुकदमे वापस लेने की मांग की जाएगी. इसके साथ ही चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति देने की मांग भी दोहराई जाएगी. महापंचायत जाट संघर्ष समिति के संयोजक नेम सिंह फौजदार के नेतृत्व में होगी.

Udaipur: ठेले पर काम करने वाले 2 युवकों से 6 लाख रुपयों के नकली नोट बरामद, सकते में पुलिस

हाल ही में गुर्जर समाज ने किया था आंदोलन


उल्लेखनीय है कि हाल ही में राजस्थान में गुर्जर समाज ने आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन किया था. हालांकि, इस बार गुर्जर समाज में आंदोलन से पहले ही दो फाड़ हो गया था. एक धड़े ने जहां सरकार से बातचीत कर समझौता कर लिया था, वहीं दूसरा पक्ष आंदोलन पर अड़ गया था. गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में इस धड़े ने भरतपुर जिले से गुजर रहे दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक को पीलूपुरा में जाम कर दिया था.

12 दिन तक ट्रैक पर धरना देकर बैठे रहे थे गुर्जर
अपनी मांगों को लेकर यह धड़ा 12 दिन तक ट्रैक पर धरना देकर बैठा रहा था. इससे यह रेलवे ट्रैक 12 दिन तक बाधित रहा. वहीं राज्य सरकार ने आंदोलन की आग प्रदेश के अन्य जिलों में ना फैले इसको देखते हुये करौली और भरतपुर समेत उसके आसपास के पांच जिलों में इंटरनेट सेवायें बंद कर दी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज