होम /न्यूज /राजस्थान /आर्मी से रिटायर होने के बाद 30 साल से कर रहे बेजुबानों की सेवा, महीने की पेंशन भी कर देते हैं खर्च

आर्मी से रिटायर होने के बाद 30 साल से कर रहे बेजुबानों की सेवा, महीने की पेंशन भी कर देते हैं खर्च

राजस्थान के भरतपुर निवासी जगवीर सिंह कुंतल लोगों के लिए एक मिसाल हैं. जगवीर सिंह आर्मी से रिटायर्ड होने के बाद मिलने वा ...अधिक पढ़ें

भरतपुर. पशुओं की सेवा करने का नेक काम करने वाले बहुत कम होते हैं, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो पशुओं की सेवा में ही अपना पूरा जीवन लगा देते है. आज हम आपको एक ऐसे ही व्यक्ति के बारे बताएंगे जिसकी कहानी अपने आप में हैरान करने वाली है. अगर आप कोई नौकरी करते हैं और आप नौकरी से सेवानिवृत हो जाएं तो आप अपनी पेंशन का क्या करेंगे. जाहिर तौर पर आप अपनी पेंशन (pension) का उपयोग अपने और परिवार के जीवन यापन के लिए करेंगे.

लेकिन आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बताने वाले है जो अपनी पूरी पेंशन उन बेजुबान पशुओं (Animals) पर खर्च कर देता है, जिनका कोई रखवाला नहीं. कहने में और सुनने में यह बात अजीब सी लगती है लेकिन यह हकीकत है. राजस्थान के भरतपुर (Bharatpur) में रहने वाले जगवीर सिंह कुंतल (Jagveer Singh Kuntal) लोगों के लिए एक मिसाल हैं. जगवीर सिंह फौज (Army) से रियायर्ड होने के बाद मिलने वाली पेंशन को बेसहारा जानवरों (stray animals) की सेवा में खर्च कर देते हैं.

30 साल से कर रहे हैं आवारा पशु पक्षियों की सेवा..
शहर की आनंद नगर कॉलोनी निवासी जगवीर सिंह ने बताया कि उनका जन्म जिले के गांव सातरूंक में बेहद गरीब परिवार में हुआ था. आर्थिक तंगी से जूझने के साथ साथ कठिन परिश्रम करके फौज में नौकरी मिली. एक दिन खेल के दौरान गंभीर घायल हो गया. बचने के बहुत कम चांस होने के साथ ही परिजन भी उम्मीद छोड़ चुके थे. लेकिन अचानक चमत्कार हुआ और बिलकुल ठीक हो गया. उसी समय से मन में संकल्प लिया कि भगवान ने मुझे दुबारा जन्म दिया है अब दूसरों के दुखों को कम करूंगा.”

आगे बताया कि गांव में लोगो और जानवरों के लिए पीने के लिए पानी नहीं था.हॉस्पिटल से छुट्टी मिलते ही सबसे पहले गांव में कुंआ खुदवा कर ग्रामीणों को पानी की समस्या से छुटकारा दिलवाया उसी समय से आवारा पशु पक्षियों की सेवा करने में जुट गया. अब फौज से रिटायर्ड होने के बाद मिलने वाली पेंशन को इन बेजुबान पशु पक्षियों की देखभाल और ईलाज पर खर्च कर देता हूं. करीब 30 साल से हजारों पशु पक्षियों की सेवा कर कर रहा हूं. इनकी सेवा करके जो खुशी मिलती है उसका एहसास ही अलग है.

इनके जज्बे को देख मेडिकल स्टोर से मिलती है 50% की छूट..
जगवीर सिंह की सेवा देखकर लोग भी उनकी मदद के लिए आगे आ रहे हैं. दवाओं और खाने पीने के सामान के साथ खड़े नजर आते हैं. जिन्होंने बीमार पशु पक्षियों की देखभाल के लिए स्वयं के खर्चे पर 400 वर्ग गज का प्लाॅट खरीदा साथ ही बीमार व दुर्घटना में घायल पशु-पक्षियों को प्लाॅट तक निजी वाहन से लाते है. इनके ईलाज में काम आने वाली मेडिसिन बाजार से खरीदते हैं लेकिन इनके जज्बे को देख मेडिकल स्टोर वाले भी दवाइयों पर 50% तक की छूट देने लगे है. वही डॉक्टर भी निशुल्क ईलाज करते हैं.

लोग मदद के लिए फोन भी करते हैं…
उन्होंने बताया कि जब तक बीमार पशु स्वस्थ नहीं हो जाता तब तक उसे अपने प्लाॅट में ही रखते हैं. जिस स्थान से बीमार पशु-पक्षियों को लाए थे, उन्हें स्वस्थ होने पर उसी स्थान पर छोड़ देते है. इनकी सेवा में इनका पूरा परिवार साथ देता है साथ ही दो बेटे है जो फौज में है. इनकी समाजसेवा को देख आस-पड़ोस के लोग इन्हें सलाम करते हैं.

अगर आपको घायल व बीमार स्थिति में कोई बेजुबान बेसहारा जानवर मिले तो उनकी सूचना जगवीर सिंह कुंतल के इस 9636766043 मोबाइल नंबर पर दे सकते है.

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें