• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • राजस्थान में ट्रैप हुआ उत्तर प्रदेश का दरोगा, 30 हजार रुपये की रिश्वत लेते एसीबी ने दबोचा

राजस्थान में ट्रैप हुआ उत्तर प्रदेश का दरोगा, 30 हजार रुपये की रिश्वत लेते एसीबी ने दबोचा

आरोपी उप निरीक्षक प्रेमपाल सिंह ने मुकदमे में से 2 लोगों के नाम को हटाने की एवज में राजवीर से 1 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी.

Corrupt Police Officer Arrested: एसीसी ने भरतपुर में रिश्वत (Bribe) लेने के आये उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) के एक दरोगा को 30 हजार रुपये लेते हुये रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. दरोगा रिश्वत की यह राशि पति-पत्नी के झगड़े को लेकर दर्ज एक मामले में ले रहा था.

  • Share this:
    रिपोर्ट-दीपक पुरी

    भरतपुर. राजस्थान भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (Anti Corruption Bureau) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मथुरा जिले के मगोर्रा थाना के दरोगा को 30 हजार रुपये की रिश्वत (Bribe) लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. आरोपी ने परिवादी से पति-पत्नी के झगड़े के मामले में रिश्वत मांगी थी.

    इस मामले में दोनों पक्षों में समझौता भी हो चुका था, लेकिन आरोपी दरोगा रिश्वत लेने पर अड़ा हुआ था. वह परिवादी को कार्रवाई का डर दिखाने के लिये होमगार्ड के दो जवान और राइफल भी साथ लेकर आया था, लेकिन वह अपने मंसूबों में कामयाब हो पाता, उससे पहले ही एसीबी के हत्थे चढ़ गया. एसीबी आरोपी दरोगा को आज कोर्ट में पेश करेगी.

    2 आरोपियों का नाम हटाने 1 लाख की रिश्वत मांगी थी
    ब्यूरो के अनुसार परिवादी राजवीर की पत्नी मिथिलेश ने अपने पति और ससुराल पक्ष के लोगों खिलाफ मथुरा जिले के मगोर्रा थाने में दहेज का मामला दर्ज कराया था. इस पर आरोपी उप निरीक्षक प्रेमपाल सिंह ने मुकदमे में से 2 लोगों के नाम को हटाने की एवज में राजवीर से 1 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी. ब्यूरो के पास जब इसकी शिकायत पहुंची तो उसने इसका सत्यापन कराया. सत्यापन के दौरान दरोगा ने परिवादी से 10 हजार रुपये रिश्वत राशि ले ली थी. उसके बाद रविवार को वह 30 हजार रुपये लेने के लिए परिवादी राजवीर के गांव तरगवा पहुंचा था. वहां रिश्वत की राशि लेते समय एसीबी ने उसे रंगे हाथों पकड़ लिया.

    परिवादी के मकान पर ही पकड़ा
    एसीबी के सीओ परमेश्वरलाल ने इस कार्रवाई को रविवार शाम करीब 6 से 7 बजे के बीच परिवादी के मकान पर ही अंजाम दिया. इस मामले को लेकर राजवीर सिंह और उसकी पत्नी में राजीनामा भी हो चुका है. राजवीर सिंह राजस्थान पुलिस में भीलवाड़ा जिले में हेड कांस्टेबल के पद पर तैनात है और उसकी पत्नी भी उसके साथ भीलवाड़ा में ही रह रही है. लेकिन फिर भी मगोर्रा थाने का उपनिरीक्षक प्रेमपाल सिंह मुकदमे में कार्रवाई ना करने के लिये पैसे लेने के लिए दबाव बना रहा था.

    “रिश्वत के लिये बना रहा था दबाव”
    राजवीर का कहना है कि 6 माह पहले उसकी पत्नी मिथिलेश और उसके बीच विवाद हुआ था. इस पर मिथिलेश ने मगोर्रा थाने में मुकदमा दर्ज कराया था. इसमें राजीनामा भी हो चुका है लेकिन जांच अधिकारी की ओर से लगातार पैसे लेने के लिए दबाव बनाया जा रहा था. इस पर तंग आकर एसीबी में मामले की शिकायत की गई थी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज