Bhilwara: वैश्विक शिव स्तुति ऑनलाइन प्रतियोगिता में शामिल हुये 19 देशों के प्रतियोगी, विजेताओं को किया पुरस्कृत
Bhilwara News in Hindi

Bhilwara: वैश्विक शिव स्तुति ऑनलाइन प्रतियोगिता में शामिल हुये 19 देशों के प्रतियोगी, विजेताओं को किया पुरस्कृत
35 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में रामप्रसाद शर्मा द्वितीय रहे.

सावन के महीने में आयोजित की गई वैश्विक शिव स्तुति ऑन लाइन प्रतियोगिता (Global Online shiva praise competition) में 19 देशों के सैंकड़ों प्रतियोगियों ने भाग लिया. प्रतियोगिता के विजेताओं (Winners) में से 3 भीलवाड़ा (Bhilwara) के रहने वाले हैं.

  • Share this:
भीलवाड़ा. सावन माह में 6 जुलाई से 3 अगस्त तक आयोजित की गई वैश्विक शिव स्तुति प्रतियोगिता (Global shiva praise competition) के विजेताओं को सोमवार को यहां पुरस्कृत किया गया. शिवस्तुति और भजनों की ऑनलाइन इस प्रतियोगिता में विश्वभर (Around the world) में रह रहे सैंकड़ों भारतीयों ने हिस्सा लिया. इसमें भारत समेत 19 देशों के प्रवासी भारतीय (Non Resident Indian) शामिल हुये. भारत के102 स्थानों के 337 प्रतिभागियों ने भाग लिया.

Rajasthan: निजी स्कूल टोटल फीस का 70 प्रतिशत चार्ज कर सकेंगे, पेरेंट्स को 3 किस्तों में 31 जनवरी तक चुकानी होगी रकम

19 विजेताओं में से 3 भीलवाड़ा शहर के
भीलवाड़ा में हरिसेवा सनातन मंदिर में इसका पुरस्कार वितरण समारोह आयोजित किया गया. विजेताओं को पुरस्कार स्वरुप अखंड भारत के नक्शे पर भगवा ध्वज सहित शिव जी की तस्वीर भेंट की गई. प्रतियोगिता के कुल 19 विजेताओं में से 3 भीलवाड़ा शहर के हैं. इन्हें महामंडलेश्वर हसराम उदासीन ने पुरस्कृत किया. विजेताओं में 10 से 17 आयु वर्ग में प्रथम आकृति मिश्रा और तृतीय दीपिका मालीवाल रही. वहीं 35 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में रामप्रसाद शर्मा द्वितीय रहे. विशेष पुरस्कार रमन जी राठी (दिल्ली) को दिया गया.
Rajasthan: 3848 ग्राम पंचायतों के चुनावों का ऐलान, 28 सितंबर, 3, 6 और 10 अक्टूबर को होगा मतदान



भगवान विष्णु की स्तुतियों और भजनों की प्रतियोगिता कराई जाएगी
समारोह के प्रारंभ में स्वरांगन संस्थान के विद्याशंकर किनरिया और आकृति मिश्रा ने सरस्वती वंदना की. कार्यक्रम में वैश्विक शिव स्तुति प्रतियोगिता के आयोजक रवीन्द्र कुमार जाजू, महादेव बाहेती, शिव बाहेती, प्रशान्त सिंह परमार, रमन राठी और मनीषा जाजू उपस्थित रहे. आयोजकों ने विजेताओं की हौसला अफजाई की. रवीन्द्र जाजू ने बताया कि शिव स्तुति के बाद में जन्माष्टमी पर श्री कृष्ण और गणेश चतुर्थी पर गणेश जी की स्तुतियों की प्रतियोगिता की आयोजित की गई. भविष्य में नवरात्रा और पुरुषोत्तम मास में भगवान विष्णु की स्तुतियों और भजनों की प्रतियोगिता कराई जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज