ABVP का उग्र प्रदर्शन, बिजली कंपनी के अधिकारियों को थाली में खून भरकर दिया, कहा- पी लो
Bhilwara News in Hindi

ABVP का उग्र प्रदर्शन, बिजली कंपनी के अधिकारियों को थाली में खून भरकर दिया, कहा- पी लो
प्रदर्शनकारियों ने सिरिंज से खून निकलवाकर एक थाली में भर लिया और बिजली कंपनी के अधिकारियों से उसे पीने को कहा.

लॉकडाउन (Lockdown) काल में बंद दुकानों के बिजली के बिलों के भुगतान को लेकर गुरुवार को भीलवाड़ा शहर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (ABVP) के छात्र-छात्राओं ने दिल दहला देने वाला प्रदर्शन किया.

  • Share this:
भीलवाड़ा. लॉकडाउन (Lockdown) काल में बंद दुकानों के बिजली के बिलों के भुगतान को लेकर गुरुवार को भीलवाड़ा शहर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (ABVP) के छात्र-छात्राओं ने दिल दहला देने वाला प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारी छात्र-छात्राओं ने अपना-अपना खून (Blood) निकालकर उसे एक थाली में भरकर सिक्‍योर मीटर्स कंपनी के अधिकारियों से उसे पीने का आग्रह किया. सूचना पर दो थानों की पुलिस मौके पर पहुंची और प्रदर्शनकारियों का समझा बुझाकर वहां से हटाया.

सीरींज से खून निकलवाकर थाली में भरा
दोपहर में एबीवीपी के दर्जनों कार्यकर्ता सिक्योर मीटर्स कंपनी के कार्यालय पर प्रदर्शन करने पहुंचे. वहां उन्होंने सीरींज से खून निकलवाकर एक थाली में भर लिया और कंपनी के अधिकारियों से उसे पीने को कहा. हालात देखकर कंपनी के अधिकारी सकते में आ गए. प्रदर्शनकारियों ने वहां नारेबाजी शुरू कर दी. सूचना पर सिटी कोतवाली और प्रतापनगर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और प्रदर्शकारियों को समझाबुझा कर उन्हें शांत कराया.

बिलों में छूट नहीं दी तो आंदोलन उग्र किया जाएगा



एबीवीपी के विभाग सहसंयोजक शंकर गुर्जर ने कहा कि सिक्‍योर मीटर्स कंपनी ने कोरोना कर्फ्यू के दौरान बंद दुकानों के भी बिजली के बिल पुराने बिलों के औसत हिसाब से निकालकर भेज दिये. कंपनी ने मार्च, अप्रैल और मई माह के बिल जनवरी-फरवरी के बिलों के आधार पर बनाए हैं. बकौल गुर्जर जब व्‍यापारी अपना व्‍यापार बंद रखे हुए है तो वह कैसे बिजली का बिल भर पाएगा. इस कारण हम यहां पर अपना खून लेकर आये हैं. हम उनसे आग्रह कर रहे हैं कि वे आमजन का खून ना चूसकर यह खून पी लें. गुर्जर ने चेतावनी देते यह भी कहा कि अब भी यदि सिक्‍योर कंपनी बिलों में छूट नहीं देती है तो उग्र आंदोलन किया जाएगा.



पिछली सरकार ने तीन शहरों किया था विद्युत व्यवस्था का निजीकरण
दरअसल पूर्ववर्ती वसुंधरा सरकार के समय प्रदेश में भीलवाड़ा, अजमेर और कोटा तीन शहरों में बिजली व्यवस्था के वितरण, बिलिंग और कलेक्शन का कार्य तीन विभिन्न निजी कंपनियों को दिया गया था. इसमें भीलवाड़ा में यह काम सिक्योर मीटर्स प्राइवेट लिमिटेड उदयपुर को आवंटित किया गया था. उस समय जब कांग्रेस विपक्ष में थी तो उसने बिजली व्यवस्था को निजी हाथों में देने का पुरजोर विरोध किया था. लेकिन अब सत्ता बदल जाने के बाद भी अभी पुरानी व्यवस्था ही जारी है.

ये भी पढ़ें :-

Rajasthan: सरकार की यह योजना आपको कराएगी छप्पर फाड़ कमाई, 90% तक मिलेगा लोन

छा गया निर्मल का निशाना ! मोबाइल के फ्रंट कैमरे से देखकर साधती है उल्टे निशाने
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading